अक्षय कुमार ने अयोध्या में किया 'राम सेतु' का शुभारम्भ, बोले- 'भगवान श्रीराम का आशीर्वाद मिला'

Akshay Kumar Begins Ram Setu Shoot In Ayodhya

राम सेतु एक एक्शन-एडवेंचर ड्रामा है जिसकी कहानी भारत की सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत की जड़ों को टटोलने पर आधारित है। अक्षय कुमार के साथ फ़िल्म में जैकलीन फर्नांडीज और नुसरत भरूचा केंद्रीय भूमिकाओं में दिखेंगे। फ़िल्म का निर्देशन अभिषेक शर्मा कर रहे हैं।

नई दिल्ली। अक्षय कुमार ने 18 मार्च को अपनी चर्चित फ़िल्म राम सेतु की शूटिंग का शुभारम्भ भगवान राम की नगरी अयोध्या में पूजा-पाठ के साथ किया। इस मौक़े की एक तस्वीर पोस्ट करके अक्षय ने अपनी भावनाएं व्यक्त कीं। फ़िल्म का निर्देशन अभिषेक शर्मा कर रहे हैं, जबकि डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी इस फ़िल्म के साथ बतौर एक्ज़ीक्यूटिव प्रोड्यूसर जुड़े हैं। 

अक्षय ने मुहूर्त पूजा की जो तस्वीर साझा की है, उसमें राम दरबार की तस्वीर के समक्ष फ़िल्म का क्लैप बोर्ड रखा गया है, जिस पर राम सेतु लिखा है। इस तस्वीर के साथ अक्षय ने ट्वीट किया- आज श्री अयोध्या जी में फ़िल्म रामसेतु के शुभारम्भ पर भगवान श्री राम का आशीर्वाद प्राप्त हआ। जय श्री राम। बता दें, राम सेतु में अक्षय के साथ जैकलीन फ़र्नांडिस और नुसरत भरूचा भी मुख्य किरदारों में दिखेंगी। 

अक्षय, जैकलीन और नुसरत के साथ गुरुवार सुबह को ही प्राइवेट जेट से अयोध्या रवाना हुए थे। उन्होंने इसकी एक फोटो शेयर करके जानकारी दी थी। अक्षय ने लिखा था- एक स्पेशल फ़िल्म की स्पेशल शुरुआत। टीम राम सेतु अयोध्या में मुहूर्त शॉट के लिए जा रही है और इसके साथ यह यात्रा शुरू होती है। आप सबकी शुभकामनाओं की दरकार है।

राम सेतु के बारे में सबस अहम बात यह है कि इस फ़िल्म के साथ स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म अमेज़न प्राइम वीडियो भारत में फ़िल्म निर्माण के क्षेत्र में उतर रहा है। बुधवार को अमेज़न प्राइम ने राम सेतु का सह-निर्माण करने का एलान किया था। अमेज़न प्राइम सह-निर्मित यह पहली फ़िल्म होगी, जो प्लेटफॉर्म से पहले सिनेमाघरों में रिलीज़ होगी। राम सेतु 2022 में रिलीज़ होने वाली है।

राम सेतु एक एक्शन-एडवेंचर ड्रामा है, जिसकी कहानी भारत की सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत की जड़ों को टटोलने पर आधारित है। एक स्टेटमेंट में अक्षय कुमार ने कहा था- "राम सेतु की कथा उन चुनिंदा विषयों में शामिल है, जिन्होंने मुझे हमेशा प्रेरित किया है और मेरे मन में कौतूहल जगाया है। यह कथा शक्ति, शौर्य और प्रेम का प्रतिनिधित्व करती है तथा उन ख़ास भारतीय मूल्यों को प्रस्तुत करती है, जिनसे हमारे महान देश के नैतिक और सामाजिक ताने-बाने का गठन हुआ है। राम सेतु अतीत, वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियों के बीच का एक पुल है। मैं भारतीय विरासत के एक महत्वपूर्ण हिस्से की कहानी सुनाने को लेकर बेहद उत्सुक हूं, विशेष रूप से युवाओं को यह कथा सुननी ही चाहिए।''