डब्ल्यूएचओ रिपोर्ट हुई लीक, वुहान की लैब में कोरोना वायरस बनने के सुबूत नहीं, सभी लैब आधुनिक

 

कोरोना वायरस चमगादड़ से जानवरों के जरिये इंसानों में आने की आशंका।

लंबे इतंजार के बाद डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट आने के बाद दुनिया जिन सवालों के जवाब तलाश रही थी उनमें से कई के उत्तर नहीं मिले। डब्ल्यूएचओ की जांच रिपोर्ट लीक हो गई है। वायरस के लैब में बनने के सुबूत नहीं मिले हैं।

जेनेवा, एजेंसियां। लंबे इतंजार के बाद डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट आने के बाद दुनिया जिन सवालों के जवाब तलाश रही थी, उनमें से कई के उत्तर नहीं मिले। डब्ल्यूएचओ की जांच रिपोर्ट लीक हो गई है। विस्तृत रिपोर्ट जारी की जा रही है।

कोरोना वायरस चमगादड़ से जानवरों के जरिये इंसानों में आने की आशंका

रिपोर्ट में विज्ञानियों ने बताया है कि वायरस के लैब में बनने के सुबूत नहीं मिले हैं। कोरोना वायरस चमगादड़ से जानवरों में और फिर उनसे मनुष्यों में फैलने की आशंका है।

डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट हुई लीक, वुहान की लैब में कोरोना वायरस बनने के सुबूत नहीं

प्रारंभिक स्तर पर जो रिपोर्ट लीक हुई है, उसमें मौटे तौर पर डब्ल्यूएचओ की टीम अंतिम रूप से किसी भी निर्णय पर नहीं पहुंची है। रिपोर्ट में तमाम सवाल अनुत्तरित हैं। रिपोर्ट के अनुसार वुहान में तीन लैब काम कर रही हैं। सभी लैब आधुनिक हैं और उच्च स्तर के सुरक्षा के मानदंड हैं। कोरोना वायरस फैलने के शुरूआती दौर में यहां किसी भी को भी सांस संबंधी बीमारी नहीं हुई। लैब का कोई भी स्टाफ कोरोना पॉजिटिव भी नहीं हुआ था।

डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट से नहीं मिले कई जवाब

अमेरिका ने पिछले सप्ताह ही यह उम्मीद जताई थी कि रिपोर्ट में जिन सवालों के उत्तर नहीं मिले हैं, उनमें आगे जांच की जानी चाहिए और इसके लिए जरूरत पड़े तो जांच टीम को दोबारा चीन जाना चाहिए।

फ्रोजन फूड से कोरोना वायरस के चीन पहुंचने के दावे की क्या सच्चाई है

विस्तृत रिपोर्ट में अभी इस सवाल का भी जवाब आना बाकी है कि फ्रोजन फूड से कोरोना वायरस के चीन पहुंचने के चीनी अधिकारियों के दावे की क्या सच्चाई है।

जांच टीम ने सभी प्रमुख पहलुओं पर आगे जांच करने की जरूरत बताई

उल्लेखनीय है कि जांच टीम ने सभी प्रमुख पहलुओं पर आगे जांच करने की जरूरत बताई है, लेकिन लैब से वायरस लीक होने की आगे जांच किए जाने पर कुछ भी नहीं कहा है।