भारत बंद को नहीं मिलेगा दिल्ली के व्यापारियों का समर्थन, निराश हो सकता है संयुक्त किसान मोर्चा

 

बंद में शामिल होने को लेकर कोई निर्णय नहीं हुआ है।

दिल्ली में दरअसल कोरोना वायरस की मार झेलते बाजारों को होली पर त्योहारी बिक्री से उम्मीदें हैं। अगर 26 मार्च के बंद में शामिल हुए तो कारोबार के लिहाज से होली फीकी चली जाएगी।

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में 26 मार्च को ‘भारत बंद’ में राष्ट्रीय राजधानी का साथ मिलने की उम्मीद काफी कम है, क्योंकि कोरोना की मार झेलते बाजारों को होली पर त्योहारी बिक्री से उम्मीदें हैं। अगर बंद में शामिल हुए तो कारोबार के लिहाज से होली फीकी चली जाएगी। उसमें भी दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे आंदोलन के चलते दिल्ली के व्यापार-उद्योग की हालत खस्ता है। वैसे, बंद में शामिल होने को लेकर व्यापारियों ने कोई अंतिम निर्णय नहीं किया है। अभी आपस में रायशुमारी का ही दौर चल रहा है। आंदोलनकारियों ने भी इस मुद्दे को लेकर अब तक व्यापारियों से संपर्क नहीं किया है।

व्यापारियों के संगठन चैंबर आफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री (सीटीआइ) के चेयरमैन बृजेश गोयल व अध्यक्ष सुभाष खंडेलवाल ने बताया कि कुछ दिन में 100 से ज्यादा व्यापारिक संगठनों के लोगों ने इस संबंध में संपर्क किया है। फिलहाल, बंद में शामिल होने को लेकर कोई निर्णय नहीं हुआ है।

सीटीआइ के महासचिव व कश्मीरी गेट आटोमोटिव पाट्र्स मर्चेट एसोसिएशन के निवर्तमान अध्यक्ष विष्णु भार्गव ने कहा कि वर्तमान स्थिति में व्यापारी किसी भी तरह के बंद के पक्ष में नहीं हैं। कोरोना के कारण व्यापारियों ने पहले ही काफी नुकसान झेला है। ऊपर से होली का त्योहार नजदीक है तो बाजार में थोड़ा व्यापार बढ़ने की उम्मीद है। ऐसे में एक दिन का बंद काफी नुकसान पहुंचाएगा।