उत्‍तराखंड : तीरथ के उपचुनाव पर कांग्रेस की टकटकी, सल्ट के लिए ललकारा

 

मुख्यमंत्री तीरथ रावत भविष्य में किस विधानसभा सीट से उपचुनाव लड़ते हैं, कांग्रेस की नजरें इस पर टिक गई हैं।

मुख्यमंत्री तीरथ रावत भविष्य में किस विधानसभा सीट से उपचुनाव लड़ते हैं कांग्रेस की नजरें इस पर टिक गई हैं। प्रमुख प्रतिपक्षी नए मुख्यमंत्री की घेराबंदी में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। कोशिश यह की जा रही है कि शुरुआती दौर से ही नए मुख्यमंत्री को मुश्किलों में उलझाया जाए।

राज्य ब्यूरो, देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत भविष्य में किस विधानसभा सीट से उपचुनाव लड़ते हैं, कांग्रेस की नजरें इस पर टिक गई हैं। प्रमुख प्रतिपक्षी नए मुख्यमंत्री की घेराबंदी में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। कोशिश यह की जा रही है कि शुरुआती दौर से ही नए मुख्यमंत्री को मुश्किलों में उलझाया जाए। इस कड़ी में पार्टी ने सल्ट उपचुनाव से चुनाव लड़ने के लिए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को ललकारा है।

भाजपा के प्रदेश में चार साल की एंटी इनकंबेंसी को लेकर खेले गए दांव से कांग्रेस अचकचाई हुई है। पिछली सरकार को ध्यान में रखकर अपनी रणनीतिक तैयारी में जुटी कांग्रेस को अब दोबारा मेहनत करनी पड़ रही है। ऐसे में कांग्रेस ने शुरुआती दौर से ही तीरथ सिंह रावत के खिलाफ आक्रामक तेवर अपना लिए हैं। नए मुख्यमंत्री को छह माह के भीतर विधानसभा उपचुनाव भी लड़ना होगा। तीरथ सिंह रावत वर्तमान में पौड़ी गढ़वाल संसदीय सीट से सांसद हैं। उन्हें छह माह के भीतर लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा देकर विधानसभा चुनाव लड़ना होगा।

कांग्रेस उपचुनाव के मुकाबले में किसी भी स्तर पर कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती है। अभी तक यह साफ नहीं हुआ है कि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत उपचुनाव किस विधानसभा क्षेत्र से लड़ते हैं। न तो मुख्यमंत्री और न ही भाजपा ने इस बारे में पत्ते खोले हैं। इस बीच भाजपा के बदरीनाथ विधायक महेंद्र भट्ट यह कहकर सनसनी फैला चुके हैं कि कांग्रेस के एक विधायक मुख्यमंत्री के लिए अपनी सीट छोड़ने को तैयार हैं। इससे अंदरखाने कांग्रेस में खलबली मची है। 

जवाब में पार्टी ने भी सल्ट विधानसभा सीट पर प्रस्तावित उपचुनाव लड़ने की चुनौती मुख्यमंत्री को दी है। तीरथ जिस भी सीट से चुनाव लड़ेंगे, उन्हें टक्कर देने के लिए मजबूत बिसात बिछाने को कांग्रेस ने सर्वोच्च प्राथमिकता बना लिया है। कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव कहते हैं कि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को सल्ट से उपचुनाव लड़ना चाहिए। इससे स्थिति साफ हो जाएगी।