लखनऊ मेल को बम से उड़ाने की धमकी से हड़कंप, गाजियाबाद स्टेशन पर एक घंटे खड़ी रही ट्रेन

 

ट्रेन में बम मिलने की सूचना के बाद गाजियाबाद स्टेशन पर इसकी जांच की गई।

दिल्ली कंट्रोल रूम को मिली सूचना के बाद हड़कंप मच गया और आनन-फानन में ट्रेन को गाजियाबाद जंक्शन रोका गया। आरपीएफ ने इसकी सूचना जीआरपी और गाजियाबाद पुलिस को दी। स्थानीय पुलिस ने स्टेशन जाकर इसकी जांच की फिर ट्रेन को रवाना किया।

गाजियाबाद। नई दिल्ली से चलने वाली लखनऊ मेल को बृहस्पतिवार देर रात बम से उड़ाने की धमकी दी गई। दिल्ली कंट्रोल रूम को मिली सूचना के बाद हड़कंप मच गया और आनन-फानन में ट्रेन को गाजियाबाद जंक्शन रोका गया। आरपीएफ ने इसकी सूचना जीआरपी और गाजियाबाद पुलिस को दी। स्थानीय पुलिस श्वान व बम निरोधक दस्ता संग गाजियाबाद स्टेशन पहुंची और लखनऊ मेल की सघन तलाशी ली गई। करीब एक घंटे तक ट्रेन के कोने-कोने में छानबीन की गई, जिस कारण यात्रियों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। ट्रेन में कुछ नहीं मिलने की पुष्टि होने पर अधिकारियों ने राहत की सांस ली और ट्रेन को रवाना किया।

इधर एक जगह और यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा है। यह मामला है सड़क से चलने वाले यात्रियों का। गाजियाबाद में ही दिल्ली मेरठ हाईवे पर ट्रैफिक पुलिस ने एनसीआरटीसी पर बिना सूचना दिए बगैर डायवर्जन करने का आरोप लगाया है। इससे दिल्ली मेरठ हाईवे पर जाम की स्थिति बन रही है। इस संबंध में एसपी ट्रैफिक एनसीआरटीसी को पत्र लिखेंगे। जीटी रोड से शहर की तरफ आने वाले वाहनों को मेरठ तिराहा पर बने कट से मोड़ना पड़ता था। मगर रैपिड रेल के निर्माण कार्य के चलते इस कट को बंद कर दिया गया है। पुलिस के अनुसार एनसीआरटीसी ने मेरठ हाईवे पर ही 100 मीटर आगे नया कट बनाया गया है। कट बनाने से पहले ट्रैफिक पुलिस को इत्तला नहीं दी गई। जिस जगह कट बनाया गया है, वहां पर भारी वाहनों को निकालने के लिए पर्याप्त जगह नहीं है। भारी वाहन का मुश्किल से मुड़ पा रहे हैं। वहीं, कट पर मुड़ने के लिए कोई चिह्न भी नहीं लगाया है। पुलिस को बताए बिना डायवर्जन करने पर जीटी रोड और मेरठ हाईवे जाम की जद में आ गए हैं।

वहीं, एसपी ट्रैफिक रामानंद कुशवाहा ने कहा कि मेरठ तिराहा पर एनसीआरटीसी ने ट्रैफिक पुलिस को बिना बताए डायवर्जन किया है। इससे ट्रैफिक व्यवस्था को संभालने में दिक्कत होती है। एनसीआरटीसी को पत्र लिखा जाएगा। इधर, एनसीआरटीसी के जनसंपर्क अधिकारी पुनीत वत्स ने बताया कि पुलिस को सूचना देकर ही डायवर्जन किया था। जब डायवर्जन किया गया तो पुलिस मौके पर तैनात थी।