नीरव के प्रत्यर्पण मामले में काटजू के खिलाफ अवमानना की कार्यवाही के लिए अटॉर्नी जनरल से मंजूरी देने की मांग

 

मार्कंडेय काटजू के खिलाफ आपराधिक अवमानना की कार्यवाही शुरू करने की सहमति मांगी गई है।

अधिवक्‍ता अलख आलोक श्रीवास्तव ने अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल (Attorney General KK Venugopal) को एक पत्र सौंपा है इसमें सेवानिवृत्त न्‍यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू के खिलाफ आपराधिक अवमानना की कार्यवाही शुरू करने की सहमति मांगी गई है।

नई दिल्‍ली, एजेंसियां। अधिवक्‍ता अलख आलोक श्रीवास्तव ने अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल को एक पत्र सौंपा है इसमें सेवानिवृत्त न्‍यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू के खिलाफ आपराधिक अवमानना की कार्यवाही शुरू करने की सहमति मांगी गई है। आपराधिक अवमानना की कार्यवाही को लेकर यह सहमति नीरव मोदी के प्रत्यर्पण  मामले में काटजू की कथित अपमानजनक टिप्पणियों के लिए मांगी गई है।

मालूम हो कि पिछले साल सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू ने कथित तौर पर टिप्‍पणी की थी कि भारत में नीरव की निष्पक्ष सुनवाई नहीं होगी क्योंकि न्यायपालिका में ज्यादातर लोग भ्रष्ट हैं। इसके बाद भारत सरकार की ओर से बहस करते हुए यूके की क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस ने काटजू के लिखित और मौखिक दावों का प्रतिरोध किया था।