होली पर कोरोना का साया, कहीं नाइट कर्फ्यू, कहीं लौटा लॉकडाउन... जानें आपके यहां क्या हैं पाबंदियां

 

महाराष्ट्र और पंजाब समेत कई राज्यों में राज्य सरकारों ने कोरोना की पाबंदियां और सख्त कर दी है।

पांच राज्यों महाराष्ट्र पंजाब केरल और गुजरात में कोरोना वायरस के सबसे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। कोरोना की रफ्तार को कम करने के लिए कई राज्यों ने लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है जबकि कुछ ने नाइट कर्फ्यू को और सख्त कर दिया है।

नई दिल्ली,  कोरोना महामारी को लेकर पांच राज्यों- महाराष्ट्र, पंजाब, कर्नाटक, गुजरात और छत्तीसगढ़ ने केंद्र और राज्य सरकारों की चिंता बढ़ा दी है। इन्हीं राज्यों में 80 फीसद से ज्यादा केस सामने आए हैं। वहीं, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु और दिल्ली में भी मामले तेजी से बढ़ रहा हैं। वायरस के तेजी से बढ़ते नए मामलों को देखते हुए राज्य सरकारों ने सख्ती बरतनी शुरू कर दी है। महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना की नई गाइडलांस को बढ़ाकर 31 मार्च कर दिया है। पंजाब ने स्कूलों को 31 मार्च तक बंद रखने का फैसला किया है। 11 जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। मध्‍य प्रदेश सरकार ने भोपाल, इंदौर और जबलपुर में लॉकडाउन लगाने का आदेश दिया है। वहीं, केंद्र सरकार ने राज्यों को 'टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट' की रणनीति को अपनाने की सलाह दी गई है। देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना महामारी के 40 हजार से अधिक नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1.15 करोड़ हो गई है और अब तक 1,59,558 लोगों की जान जा चुकी है। 

महाराष्ट्र ने 31 मार्च तक बढ़ाई नई कोरोना गाइडलाइंस

कोरोना महामारी से बुरी तरह प्रभावित महाराष्ट्र ने नई कोरोना गाइडलाइंस को 31 मार्च तक के लिए बढ़ा दिया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि अगर हालात काबू में नहीं हुए तो लॉकडाउन भी एक विकल्प है। इस बीच, राज्य सरकार ने थियेटर और ऑडिटोरियम को 31 मार्च तक 50 फीसद क्षमता से चलाने का आदेश दिया है। इस संबंध में शुक्रवार को जारी अधिसूचना में स्वास्थ्य सेवाओं और अन्य आवश्यक सेवाओं को छोड़कर निजी क्षेत्र के दफ्तरों को भी कर्मचारियों की 50 फीसद क्षमता के साथ काम करने को कहा गया है। जबकि, सरकारी और अर्धसरकारी दफ्तरों के लिए वहां के हेड को कर्मचारियों की संख्या को निर्धारित करने का अधिकार दिया गया है।

भोपाल, इंदौर और जबलपुर में 32 घंटे का लॉकडाउन

मध्य प्रदेश के भोपाल, इंदौर और जबलपुर में शनिवार रात 10 बजे से सोमवार सुबह छह बजे तक यानी कुल 32 घंटे का लॉकडाउन लगाने का एलान किया गया है। 31 मार्च तक इन तीन शहरों में स्कूल-कॉलेज भी बंद रहेंगे। इस दौरान आवश्यक सेवाएं और उद्योग चालू रहेंगे। बिना अनुमति सामाजिक समारोह भी नहीं आयोजित किए जाएंगे। कोरोना संक्रमण के कारण ज्योतिर्लिग महाकाल मंदिर में दर्शन व्यवस्था में भी बदलाव हुआ है। इसके तहत रात नौ बजे से पहले सभी दर्शनार्थियों को मंदिर परिसर से बाहर आना होगा। श्रद्धालु शयन आरती दर्शन नहीं कर सकेंगे।

सूरत में कफ्र्यू की अवधि एक घंटे बढ़ी

गुजरात में भी कोरोना की रफ्तार पर ब्रेक नहीं लग पा रहा है। औद्योगिक नगरी सूरत में भी तेजी से मामले बढ़ रहे हैं। पिछले एक दिन में तीन सौ से ज्यादा नए मरीजों के मिलने के बाद शहर में रात के कफ्र्यू के समय को बढ़ा दिया गया है। अब शुक्रवार से ही रात 10 के बजाय नौ बजे से सुबह छह बजे तक कफ्र्यू प्रभावी होगा। वहीं, अहमदाबाद में मॉल और मल्टीप्लेक्स को सप्ताहांत में बंद रखने का भी आदेश दिया गया है। शहर में रात का कफ्र्यू पहले से ही लागू है।

 31 मार्च तक सभी शिक्षण संस्थान बंद 

पंजाब सरकार ने कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित 11 जिलों में गाइडलाइंस को और सख्त कर दिया है। इन 11 जिलों में 31 मार्च तक मेडिकल कालेजों को छोड़ कर सभी शिक्षण संस्थान बंद करने के आदेश दिए गए हैं। इस दौरान परीक्षाएं भी स्थगित रहेंगी। मोहाली, अमृतसर, लुधियाना, पटियाला, होशियारपुर, जालंधर, कपूरथला, रोपड़, मोगाइन, एसबीएस नगर और फतेहगढ़ साहिब में रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगाया गया है। नए फैसले में सरकार ने रोजाना होने वाली टेस्टिंग की संख्या 30 हजार से बढ़ाकर 35 हजार कर दी है।

तेज हुआ टीकाकरण अभियान

वहीं, कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान के तहत देशभर में अब तक लाभार्थियों को कोरोना रोधी वैक्सीन की कुल चार करोड़ 11 लाख 55 हजार से ज्यादा खुराकें दी जा चुकी हैं। इनमें से 18,16,161 डोज शुक्रवार को दी गईं। मंत्रालय ने बताया कि लाभार्थियों में 76.86 लाख स्वास्थ्यकर्मी (पहली खुराक), 47.69 लाख स्वास्थ्यकर्मी (दूसरी खुराक), 79.10 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स (पहली खुराक) और 23.16 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स (दूसरी खुराक) शामिल हैं।