पुलिस मुठभेड़ में नीरज बवानिया गैंग का कुख्यात बदमाश गिरफ्तार, प्रॉपर्टी डीलर का किया था मर्डर

 

प्रापर्टी डीलर विकास मेहता की मोहन गार्डन में हत्या कर दी थी।

स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव कुमार यादव ने बताया कि मोहन गार्डन में एक सनसनीखेज हत्या के मामले में वांछित कमल गहलोत के आने की जानकारी मिलने पर एसीपी जसवीर ¨सह और इंस्पेक्टर रवि तुशीर की टीम शुक्रवार की आधी रात मुंडका इलाके में सक्रिय हो गई थी।

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मुठभेड़ के बाद प्रॉपर्टी डीलर विकास मेहता की हत्या करने वाले कुख्यात बदमाश कमल गहलोत को धर दबोचा। वह नीरज बवानिया व नवीन बाली गिरोह का सदस्य है। पुलिस की एक गोली बदमाश के बाएं पैर में लगी, जिससे वह घायल हो गया। उसे इलाज के लिए नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हालांकि, बदमाश की गोली से एक पुलिसकर्मी बाल-बाल बच गया। पुलिस ने बदमाश के पास से एक पिस्टल और एक रिवाल्वर व छह कारतूस सहित चोरी की एक कार बरामद की है।

स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव कुमार यादव ने बताया कि मोहन गार्डन में एक सनसनीखेज हत्या के मामले में वांछित कमल गहलोत के आने की जानकारी मिलने पर एसीपी जसवीर ¨सह और इंस्पेक्टर रवि तुशीर की टीम शुक्रवार की आधी रात मुंडका इलाके में सक्रिय हो गई थी। रात करीब दो बजे पुलिसकर्मियों ने बिना नंबर प्लेट की एक कार को देख चालक को रुकने का संकेत दिया।

हालांकि, कमल कार से उतरकर भागने की कोशिश करने लगा। यही नहीं उसने पुलिस पर गोली चलानी शुरू कर दी। उसने तीन फायर किए, जिसमें एक गोली हेड कांस्टेबल लोकेंद्र को लगी। बुलेटप्रूफ जैकेट पहने होने के कारण वह बाल-बाल बच गए। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने दो गोलियां चलाई। इसमें एक गोली कमल के पैर में लगी और वह घायल होकर गिर गया। पुलिस अधिकारी ने बताया कि मूल रूप से नवादा निवासी कमल का चाचा प्रवीण गहलोत उर्फ गोलू मंजीत महल गिरोह का सक्रिय सदस्य था। उस पर कई आपराधिक मामले दर्ज थे।

उत्तम नगर स्थित एक संपत्ति को लेकर प्रवीण का अन्य गिरोह के प्रदीप सोलंकी से विवाद चल रहा था। इसी विवाद में प्रदीप सोलंकी के कहने पर विकास दलाल ने वर्ष 2019 में गोली मारकर प्रवीण की हत्या कर दी थी। बाद में एक मुठभेड़ में विकास दलाल भी मारा गया था। कमल गहलोत ने चाचा की हत्या का बदला लेने के लिए इस साजिश में शामिल रहे प्रापर्टी डीलर विकास मेहता की मोहन गार्डन में हत्या कर दी थी।