कोरोना के केस बढ़ने पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बुलाई आपात बैठक

 

सरकार के मुखिया मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक आपात बैठक बुलाई है।

दिल्ली से सटे एनसीआर के गाजियाबाद और नोएडा में धारा 144 लागू होने के बाद से एक बार फिर राज्य सरकार कोरोना के बढ़ते केस के कारण फिर से अलर्ट मोड में आ गई है। सरकार के मुखिया मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक आपात बैठक बुलाई है।

नई दिल्ली । दिल्ली से सटे एनसीआर के गाजियाबाद और नोएडा में धारा 144 लागू होने के बाद से एक बार फिर राज्य सरकार कोरोना के बढ़ते केस के कारण अलर्ट मोड में आ गई है। सरकार के मुखिया मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक आपात बैठक बुलाई है। यह आपात बैठक दिल्ली सचिवालय में होगी इसमें स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन भी रहेंगे। सरकार कोरोना के केस बढ़ने से पहले भी हर मार्चे पर इस वायरस के प्रति लोगों को जागरुक कर रही थी, अब इसमें और तेजी आएगी।  कोविड-19 के बढ़ते केस के कारण दिल्ली से सटे नोएडा और गाजियाबाद में प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दिया गया है।

बीते कुछ दिनों से दिल्ली में यह देखा जा रहा था कि लोग शारीरिक दूरी का खास खयाल नहीं रख रहे थे और ना ही सावर्जनिक जगहों पर मास्क का इस्तेमाल कर रहे थे। हालांकि, मास्क नहीं पहनने पर कोविड नियम के उल्लंघन पर चालान काटा जा रहा है। अब कोरोना संक्रमितों के मामले में बढ़ाेतरी के कारण इसमें और तेजी देखने को मिल सकती है।

इधर, मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया कि आपात बैठक में कोविड-19 के हालात पर चर्चा की जाएगी। इसमें स्वास्थ्य सचिव और अन्य सीनियर अधिकारी सरकार को मौजूदा हालात की समीक्षा कर बताएंगे। इधर कोरोना के केस बढ़ने के साथ ही सड़कों पर सख्ती नजर आने लगी है। सिविल लाइन्स एरिया में मास्क ना पहनने पर लोगों का चालान काटा जा रहा है। इन लोगों से 2000 रुपये फाइन वसूला जा रहा है। सिविल लाइन एसडीएम राजेश चौधरी ने बताया कि हम कोविड-19 के दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करवा रहे हैं। इसके लिए शारीरिक दूरी और मास्क का इस्तेमाल अनिवार्य किया गया है। बता दें कि कोरोना की रफ्तार दिल्ली में लोगों की लापरवाही के कारण अचानक से बढ़ने लगी है।