ममता पर खांटी बांग्ला में मोदी का पलटवार, टीएमसी मतलब ट्रांसफर माय कमीशन

 

पुरुलिया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा में उमड़ी अपार भीड़

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस को पीछे धकेलने की कोशिश में जुटी भाजपा के लिए गुरुवार का दिन मील का पत्थर साबित हो सकता है। पुरुलिया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी जनसभा में इसके स्पष्ट संकेत दिखे। सभास्थल नवोकुंज मैदान उमड़ी भीड़ के आगे छोटा पड़ गया।

पुरुलिया ,पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस को पीछे धकेलने की कोशिश में जुटी भाजपा के लिए गुरुवार का दिन मील का पत्थर साबित हो सकता है। पुरुलिया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विशाल चुनावी जनसभा में इसके स्पष्ट संकेत दिखे। सभास्थल नवोकुंज मैदान उमड़ी भीड़ के आगे छोटा पड़ गया। लोगों का उत्साह हिलारे मार रहा था। चारों तरफ बस मोदी, मोदी के नारे और जयश्रीराम का जयकारा। सुबह से ही यहां लोगों की भीड़ जुटने लगी थी। तकरीबन 11.55 बजे जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभा स्थल के मंच पर चढ़े तो लोगों का जोश परवान पर था। प्रधानमंत्री ने फर्राटेदार बांग्ला बोलकर भी लोगों को चौकाया। तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी की तरफ इशारा करते हुए कहा- दीदी के चोरी खेला चोलबे ना, चोलबे ना।

लगभग 48 मिनट के लंबे भाषण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्ला स्वाभिमान, तृणमूल की गुंडागर्दी से लेकर केंद्रीय योजनाओं तक की चर्चा की। शुरूआत पुरुलिया में जल संकट से की और भाषण के अंत में लोगों को भरोसा दिलाया कि दो मई को पश्चिम बंगाल में भाजपा की सरकार बनेगी। तोलाबाजी और सिंडिकेट राज का खात्मा होगा। उन्होंने जोर देकर कहा कि बंगाल में गुंडों और अपराधियों का राज है। भाजपा यहां कानून का राज कायम करेगी और गुंडों की जगह जेल में होगी। दीदी सरकार का काउंटडाउन शुरू हो चुका है।

टीएमसी मतलब ट्रांसफर माय कमीशन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टीएमसी (तृणमूल कांग्रेस) की नई परिभाषा गढ़ी तो लोगों ने खूब तालियां बजाई। उन्होंने कहा, टीएमसी मतलब ट्रांसफर माय कमीशन। बंगाल में बगैर कमीशन के कुछ नहीं होता। कोरोना संकट में काल में मिलने वाले अनाज पर भी कमीशन ले रहे थे। कमीशन नहीं मिलने के कारण बंगाल में आयुष्मान भारत  योजना, किसानों को मिलने वाली राशि संबंधी योजनाएं लागू नहीं की गई।

दीदी ने बनाई माओवादियों की नई नस्ल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आरोप लगाया कि दीदी (ममता बनर्जी) ने बंगाल में माओवादियों की नई नस्ल बनाई। यह नस्ल गरीबों का हक लूटती है। सवाल उठाया कि कोयला और बालू माफियाओं को कौन संरक्षण देता है। दीदी की सरकार हिंसा को बढ़ावा देती है। भाजपा कार्यकर्ताओं को सरेआम फांसी दी गई, गोलियां मारी गई। टीएमसी के अब गिनती के दिन बचे हैं। दीदी का जाना तय हो चुका है।

डबल इंजन से होगा विकास

प्रधानमंत्री ने पश्चिम बंगाल में भाजपा की सरकार बनाने के फायदे गिनाते हुए कहा कि एक इंजन बंगाल का और दूसरा इंजन दिल्ली का होगा तो डबल इंजन की सरकार में बंगाल का विकास होगा। पुरुलिया में जल संकट है। जिन राज्यों में भाजपा की सरकारें हैं, वहां पाइपलाइन से पानी पहुंचाने की योजनाओं पर का हुआ। लोगों को बेहतर रेल सेवा से जोड़ा गया। जंगलमहल के लोगों के साथ आरंभ से अन्याय हुआ। तुष्टिकरण के नाम पर युवाओं का हक छीनकर किसी और को दिया गया।