आपको LPG Cylinder पर Subsidy मिल रही है या नहीं? मिनटों में कर सकते हैं पता, ये है पूरा प्रॉसेस


अगर आपको सब्सिडी नहीं मिल रही है तो आपको अपने एलपीजी डीलर से संपर्क करना होगा। (PC: AFP)

एलपीजी कंपनी की वेबसाइट के जरिए आप आसानी से इस बात का पता लगा सकते हैं कि आपको सब्सिडी की रकम नियमित मिल रही है या नहीं। अगर आपको सब्सिडी की रकम मिल रही है तो आपको राशि से जुड़ी जानकारी भी मालूम चल जाएगी।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। घरेलू गैस सिलेंडर खरीदने के बाद लोग कई बार इस बात को लेकर परेशान रहते हैं कि उन्हें सब्सिडी मिल रही है या नहीं। इसकी वजह है कि कई बार एक निश्चित राशि से कम की लेनदेन की सूचना एसएमएस के जरिए नहीं मिलती है। इस वजह से कई लोग परेशान या कन्फ्यूज रहते हैं। हालांकि, अपनी एलपीजी कंपनी की वेबसाइट के जरिए आप आसानी से इस बात का पता लगा सकते हैं कि आपको सब्सिडी की रकम नियमित मिल रही है या नहीं। अगर आपको सब्सिडी की रकम मिल रही है तो आपको राशि से जुड़ी जानकारी भी मालूम चल जाएगी कि किस बुकिंग पर कितने रुपये की सब्सिडी मिली है।  

आइए जानते हैं इस चीज को चेक करने का क्या है तरीका

1. अपनी एलपीजी सर्विस प्रोवाइडर कंपनी की वेबसाइट को किसी भी ब्राउजर में खोलिए।

2. अगर आपने पहले से वेबसाइट पर अकाउंट बनाया हुआ है तो लॉग इन आईडी और पासवर्ड से लॉग इन करिए। 

3. वहीं, अगर आपने अकाउंट नहीं बनाया है तो एलपीजी आईडी, कंज्यूमर नंबर और अन्य जानकारी की मदद से अकाउंट बनाइए और फिर लॉग इन कीजिए।

4. लॉग इन करने के बाद आपको 'View Cylinder Booking History' के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। 

5. यहां आपको सब्सिडी से जुड़ी पूरी जानकारी मिल जाएगी।  

अगर आपको सब्सिडी नहीं मिल रही है तो आपको अपने एलपीजी डीलर से संपर्क करना होगा। सब्सिडी नहीं मिलने के कई कारण हो सकते हैं। इनमें सबसे बड़ा कारण है केवाईसी से जुड़े दस्तावेजों का अपडेट नहीं होना। इसमें अगर आपका आधार अगर एलपीजी आईडी से लिंक नहीं है तो आपकी सब्सिडी नहीं मिलेगी। इसी तरह अगर आपका आधार अगर दिए गए बैंक अकाउंट से लिंक नहीं है तो आपको इसका लाभ नहीं मिलेगा।  

इसके अलावा अगर किसी परिवार में पति और पत्नी की कुल सालाना आमदनी 10 लाख रुपये से ज्यादा है तो आपको एलपीजी सिलेंडर पर सब्सिडी का लाभ नहीं मिलेगा। इस चीज को उदाहरण से समझते हैं कि अगर किसी व्यक्ति की सालाना आय 6 लाख रुपये है तो उसे सब्सिडी मिलेगी। हालांकि, उस व्यक्ति की शादी होने के बाद अगर उसकी पत्नी की आय 5 लाख रुपये है तो दोनों की आय मिलाकर 10 लाख रुपये से ज्यादा हो जाएगी। ऐसे केस में सब्सिडी नहीं मिलेगी।