ओडिशा में 10वीं की परीक्षा रद, छात्रों के विरोध के बाद लिया गया निर्णय

 

ओडिशा में 10वीं की परीक्षा रद कर दी गई है

 ओडिशा में मंगलवार को सैकडों छात्र-छात्राएं मैट्रिक परीक्षा को लेकर निर्णय जल्द लेने की मांग उठाते हुए नवीन निवास तक मार्च किया था। जिसके बाद राज्‍य में 2021 की मैट्रिक परीक्षा रद कर दी गई है।

 भुवनेश्वर, संवाददाता। मैट्रिक परीक्षा को लेकर चल रही संशय की स्थिति पर आखिरकार विराम लग गया है। राज्य सरकार ने प्रदेश में करोना संक्रमण की लगातार बढ़ती तादाद को देखते हुए 2021 की मैट्रिक परीक्षा रद करने का निर्णय लिया है। 

 गौरतलब है कि मंगलवार को सैकडों छात्र-छात्राएं मैट्रिक परीक्षा को लेकर निर्णय जल्द लेने की मांग उठाते हुए नवीन निवास तक मार्च किया था। सरकार ने पहले कहा था कि मैट्रिक परीक्षा को लेकर बाद में फैसला लिया जाएगा। छात्रों की मांग थी की सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड ने मैट्रिक परीक्षा पहले ही रद कर दी है ऐसे में राज्य माध्यमिक शिक्षा बोर्ड को भी मैट्रीक परीक्षा रद की जानी चाहिए।  

 छात्रों की मांग को देखते हुए सरकार दवाब में थी। विद्यालय व गणशिक्षा मंत्री समीर रंजन दास ने कहा कि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के निर्धारित पद्धति के अनुसार विद्यार्थियों को मैट्रिक के परीक्षा परिणाम घोषित किया जाएगा। अगर कोई विद्यार्थी इससे असहमति जताता है तो उनके लिए परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा। जिसके बारे में करोना स्थिति सुधरने के बाद निर्णय लिया जाएगा। करोना के लिए इस साल स्कूलों में पढ़ाई बाधा प्राप्त हुई थी केवल मैट्रिक परीक्षा को देखते हुए स्कूलों में अतिरिक्त क्लास लिए गये थे। सरकार ने मैट्रिक परीक्षा के साथ मद्रासा की परीक्षाओं को भी रद् कर दिया है।   मैट्रिक परीक्षा रद होने को लेकर अभिभावकों ने मिलीजुली  प्रतिक्रिया सामने दी है। कुछ ने इसका स्वागत किया है तो कुछ ने इसे कॉलेज में दाखिले के समय समस्या उत्पन्न करने वाला कदम बताया है।