ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने 12 घंटे में 425 और 5:14 घंटे में पूरी की 310 किमी. की दूरी

 

40 और वाराणसी से लखनऊ तक 60 किमी प्रति घंटा की गति से दौड़ी ऑक्सीजन एक्सप्रेस।
Publish Date:Sun, 25 Apr 2021 02:54 PM (IST)Author: Rafiya Naz

कम समय मे बोकारो से निकली ऑक्सीजन एक्सप्रेस को लखनऊ तक पहुंचाने में रात भर कन्ट्रोल रूम की कमान संभालते रहे। एक समय आया जब डिब्रूगढ़ नई दिल्ली राजधानी से भी ऑक्सीजन एक्सप्रेस का पाला पड़ा लेकिन उसे भी पछाड़ दिया।

लखनऊ । जब शहरवासियों की जान पर हर गुजरते वक्त के साथ ऑक्सीजन की कमी भारी पड़ रही थी। तब दूसरी तरफ रेलवे के हर जिम्मेदार अधिकारी हर हाल में कम से कम समय मे बोकारो से निकली ऑक्सीजन एक्सप्रेस को लखनऊ तक पहुंचाने में रात भर कन्ट्रोल रूम की कमान संभालते रहे। एक समय आया जब डिब्रूगढ़ नई दिल्ली राजधानी से भी ऑक्सीजन एक्सप्रेस का पाला पड़ा। लेकिन रेलवे ने ऑक्सीजन एक्सप्रेस को प्राथमिकता दी और वाराणसी से लखनऊ मात्र 5:14 घंटे में पहुंचा दिया। यह वाराणसी से जम्मूतवी जाने वाली बेगमपुरा सुपरफ़ास्ट एक्सप्रेस से केवल चार मिनट ज्यादा रहा, लेकिन पंजाब मेल और नीलांचल सुपरफास्ट जैसी ट्रेनो से कम समय ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने लिया।

बोकारो से शुक्रवार दोपहर 1:30 बजे तीन ऑक्सीजन टैंकरों को लेकर ऑक्सीजन एक्सप्रेस रवाना हुई थी। गया के रास्ते यह ट्रेन औसतन 40 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से 11:46 घंटे में रात 1:16 बजे वाराणसी स्टेशन पहुंची। चूंकि ऑक्सीजन एक्सप्रेस को लखनऊ हर हाल में सुबह छह बजे तक लाने का प्लान बनाया गया था। इसलिए केवल पांच मिनट में ही वाराणसी में एक ऑक्सीजन टैंकर को हटाकर 1:21 बजे लखनऊ की ओर रवाना कर दिया गया। वाराणसी से यह ट्रेन लखनऊ कंट्रोल के अधीन आ गई। ऑक्सीजन एक्सप्रेस जिस मिलिट्री स्पेशल के लो फ्लोर रैक पर आ रही थी।।उसकी अधिकतम औसत गति 65 किलोमीटर प्रतिघंटा तय थी।।जबकि संरक्षा मानकों के तहत स्वीकृत गति से 10 प्रतिशत और गति की तेजी से इसको चलाया जा सकता था। ऑक्सीजन एक्सप्रेस की वाराणसी से लखनऊ के बीच गति को 70 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक रखा गया। यह ट्रेन जौनपुर और सुलतानपुर होते हुए सुबह 5:50 बजे उतरेटिया पहुंच चुकी थी। वहां से ऑक्सीजन एक्सप्रेस सुबह 6:30 बजे चारबाग़ स्टेशन पहुंच गई। बोकारो से 735 किलोमीटर की दूरी ऑक्सीजन एक्सप्रेस ने 17 घंटे में तय कर ली।।सड़क रास्ते से यह दूरी 36 स 40 घंटे में तय होती है। वही नीलांचल सुपरफास्ट वाया प्रतापगढ़ 14:05 घंटे में बोकारो से लखनऊ आती है। जबकि वाराणसी से ट्रेन 02369 हावड़ा देहरादून कुम्भ एक्सप्रेस स्पेशल 5:25 घंटे, 02371 हावड़ा बीकानेर सुपरफास्ट 5:45 घंटे, नीलांचल सुपरफास्ट 5:55 घंटे, दानापुर आनंद विहार स्पेशल 6:05 घंटे और 03005 हावड़ा अमृतसर पंजाब मेल 6:10 घंटे में वाराणसी से लखनऊ आती है।

राजधानी को पछाड़ा: लाइफ लाइन ऑक्सीजन एक्सप्रेस ग्रीन कॉरिडोर पर खूब दौड़ी। रेलवे के इतिहास में शायद ऐसा पहली बार होगा जब हजारों लोगों की जिंदगी बचाने के लिए ऑक्सीजन एक्सप्रेस के रूप में चल रही मालगाड़ी ने वीआईपी ट्रेन राजधानी एक्सप्रेस को पछाड़ दिया। वाराणसी से ऑक्सीजन एक्सप्रेस रात 1:21 बजे लखनऊ को निकली। जबकि इसके ठीक बाद ट्रेन 02503 डिब्रूगढ़ नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस रात दो बजे वाराणसी से छूटी। जौनपुर और श्रीकृष्णा नगर के बीच राजधानी एक्सप्रेस को आगे निकलना था। लेकिन रेलवे ने ऑक्सीजन एक्सप्रेस को बिना किसी बाधा के जल्द लखनऊ पहुंचाने के आदेश कंट्रोलर को दिए। हरे सिग्नल पर चार हजार हॉर्स पावर वाले आधुनिक इंजन के साथ गुड्डू गौड़ और संजीव कुमार ने ऑक्सीजन एक्सप्रेस की स्पीड को।कम नही होने दिया। खुद परेशानी में फिर भी किया आपरेशनबोकारो से लखनऊ तक बिना बाधा के ऑक्सीजन एक्सप्रेस को चलाने का जिम्मा भारतीय रेल यातायात सेवा के वरिष्ठ अधिकारी अश्विनी श्रीवास्तव को सौपा गया। अश्विनी श्रीवास्तव उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के एडीआरएम आपरेशन भी हैं। खुद व परिवार में कई लोगो के बीमार होने के बावजूद अश्विनी श्रीवास्तव ने कन्ट्रोल रूम की जिम्मेदारी संभाली। ग्रीन कॉरीडोर की सारी बाधाओं को दूर किया।

सोमवार सुबह आएगी दूसरी ऑक्सीजन एक्सप्रेस: एडीआरएम अश्विनी श्रीवास्तव लखनऊ आने वाली ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों के इंचार्ज हैं। उन्होंने चार खाली ऑक्सीजन टैंकरों के साथ एक ऑक्सीजन एक्सप्रेस को शनिवार सुबह 5:30 बजे बोकारो रवाना किया। यह ट्रेन भी प्राथमिकता पर भेजी गई है। वाराणसी होकर यह ट्रेन शनिवार रात नौ बजे तक बोकारो पहुंच जाएगी। रविवार दोपहर में चलकर ट्रेन सोमवार सुबह चार टैंकरों के साथ लखनऊ आएगी।