पाकिस्तान की मॉडिफाइड वैगनआर इंटरनेट पर मचा रही धमाल, महज 2.3 लाख रुपये में बनकर हुई तैयार

 

कार के मालिक का नाम मोहम्मद इरफान उस्मान हैं

कार के मालिक का नाम मोहम्मद इरफान उस्मान हैं जो पाकिस्तान में कार गैरेज और वर्कशॉप के मालिक हैं। उनका कहना है कि उन्होंने हचबैक को एक लिमोजिन में बदलने की इस योजना पर खुद काम किया है। उस्मान लंबे समय से ऑटोमोबाइल सेक्टर से जुड़ें हुए हैं।

नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। भारत में वाहनों का मॉडिफिकेशन हमेशा से चर्चा में रहता है। कई लोग अपने वाहन मेंअजीब तरह के बदलाव कर लेते हैं। फिलहाल आज हम जिस मॉडिफिकेशन की बात करने जा रहे हैं, वह भारत से नहीं पाकिस्तान से है। दरअसल, पाकिस्तानी वैगनआर मालिक ने अपनी कार का लिमोजिन वर्जन तैयार किया है, जो आजकल इंटरनेट पर चर्चा में है। आइए आपको भी बताते हैं, इस अनोखी वैगनआर की कहानी:

कार के मालिक का नाम मोहम्मद इरफान उस्मान हैं, जो पाकिस्तान में कार गैरेज और वर्कशॉप के मालिक हैं। उनका कहना है कि उन्होंने हचबैक को एक लिमोजिन में बदलने की इस योजना पर खुद काम किया है। उस्मान लंबे समय से ऑटोमोबाइल सेक्टर से जुड़ें हुए हैं। उन्होंने सबसे पहले 1977 में अपना काम शुरू किया और फिर सऊदी अरब चले गए। जहाँ उन्होंने 35 वर्षों तक ऑटोमोबाइल सेक्टर में काम किया। 

उन्होंने पाकिस्तानी मीडिया से बात करते हुए बताया कि वह सऊदी अरब में इस योजना पर काम करने की कोशिश में थे, लेकिन किसी वजह से ऐसा नहीं हो सका। हालांकि जब वह पाकिस्तान वापस आए और उन्होंने अपना गैरेज फिर से शुरू किया, तो उसे प्रोजेक्ट पर काम करने का समय मिला। उस्मान ने कार पर काम शुरू करने से पहले बड़े पैमाने पर लिमोजिन के बारे में खोज की।  एक लंबी रिसर्च के बाद इन्होंने वैगनआर पर काम किया। 

उस्मान के द्वारा तैयार की गई वैगनआर की लंबाई को 3 फीट और 7 इंच बढ़ाया गया है। जिसके चलते यह लिमोजिन वर्जन 14.5 फीट का हो गया है। इसमें कुछ छह दरवाजे हैं, जिसमें 6 लोग आसानी से यात्रा कर सकते हैं। उस्मान का दावा है कि यह वैगनआर 500 किलोग्राम वजन को आसानी से संभाल सकती है। हालांकि कार के इंजन और गियरबॉक्स में अन्य कोई बदलाव नहीं किया गया हैं।