छत्‍तीसगढ़ में बेकाबू हुई कोरोना की रफ्तार, बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 15,256 नए मामले, 135 की मौत, केंद्र ने ली बैठक

छत्तीसगढ़ और उत्‍तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के हालात की समीक्षा के लिए केंद्र ने शुक्रवार को बैठक की।

छत्तीसगढ़ और उत्‍तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के हालात की समीक्षा के लिए केंद्र ने शुक्रवार को राज्‍य के अधिकारियों के साथ बैठक की। इस बैठक में केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला (Ajay Kumar Bhalla) केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सचिव राजेश भूषण (Rajesh Bhushan) भी शामिल हुए।

रायपुर, एजेंसियां। छत्तीसगढ़ में कोरोना की रफ्तार बेकाबू हो गई है। राज्‍य में गुरुवार को एक दिन में 15,256 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो गई जिसके साथ ही राज्य में अब तक वायरस से संक्रमित हुए लोगों का आंकड़ा बढ़कर 5,01,500 हो गया है। छत्तीसगढ़ में एक दिन में कोरोना संक्रमण से 135 लोगों की मौत हुई है जिसके साथ राज्‍य में महामारी से मरने वालों की संख्‍या 5,442 हो गई है। राज्‍य में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को थामने के लिए कोशिशें भी जारी हैं। 

केंद्र ने छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के हालात की समीक्षा के लिए शुक्रवार को सूबे के अधिकारियों के साथ बैठक की। इस बैठक में केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला, केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सचिव राजेश भूषण  मौजूद रहे। बैठक के दौरान कोरोना संक्रमण की रोकथाम और प्रबंधन के लिए उठाए जाने वाले कदमों और उपायों पर चर्चा की गई। 

समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक राज्‍य के रायपुर जिले में अब तक सबसे अधिक 1,06,319 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। जिले में कोरोना संक्रमण से 1431 लोगों की जान भी जा चुकी है। गुरुवार को रायपुर जिले में 3,438, दुर्ग में 1,778, राजनांदगांव में 1319, बालोद में 199, बेमेतरा में 293, कबीरधाम में 425, धमतरी में 411, बलौदाबाजार में 616 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का कहना है कि राज्य सरकार कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए हर संभव उपाय कर रही है। 

मालूम हो कि छत्तीसगढ़ में पिछले नौ दिन से संक्रमण के 10,000 से अधिक दैनिक मामले सामने आ रहे हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का कहना है कि राज्य में बिस्तरों की संख्या, आईसीयू बेड, ऑक्सीजन युक्त बेड की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। नए मेडिकल स्टॉफ की भर्ती की जा रही है। सभी जिलों को कोविड प्रबंधन के लिए लगातार राशि उपलब्ध कराई जा रही है। यही नहीं सभी जिलों में कंट्रोल रूम स्थापित किए गए हैं। शासकीय अस्पतालों में कोरोना से संक्रमित मरीजों का निःशुल्क इलाज किया जा रहा है।