कोरोना के कहर से बेखबर मुंबईवासी: अब तक 25 लाख से ज्‍यादा पर लगा जुर्माना, BMC ने वसूले 51.46 करोड़

 

मास्क न पहनने पर 25 लाख 53 हजार 546 लोगों से जुर्माना वसूला गया है

कोरोना संक्रमण से जूझती मुंबई में लोग अभी भी कोविड नियमों का खूब उल्‍लंघन कर रहे हैं। बीएमसी अब तक कुल 25 लाख 53 हजार 546 लोगों से जुर्माना वसूल चुकी है। जिससे अब तक 51.46 करोड़ रुपये की राशि जमा हो चुकी है।

मुंबई, एएनआइ। देश भर में एक बार फिर कोरोना कोहराम मचा रहा है इसका सबसे ज्‍यादा मामले महाराष्ट्र से सामने आ रहे हैं। सबसे ज्‍यादा मामले आर्थिक राजधानी मुंबई  से सामने आ रहे हैं। लेकिन इसके बावजूद भी लग रहा है कि मुंबईवासी कोरोना संक्रमण को गंभीर रूप से नहीं ले रहे हैं और कोरोना नियमों की जमकर धज्जियां उड़ा रहे हैं।  बृहन्मुंबई नगरपालिका की ओर से जारी कुछ आंकड़ों से पता चला है कि मुंबई में पिछले साल 20 अप्रैल से लेकर अब तक मास्क न पहनने पर एक-दो नहीं बल्कि पूरे 25 लाख 53 हजार 546 लोगों से जुर्माना वसूला गया है। जिससे  बीएमसी के पास 51.46 करोड़ रुपये की राशि जमा हुई है। 

मुंबई के फाइव स्‍टार होटल कोविड केंद्रों में तब्‍दील 

कोरोना महामारी की तेज गति को देखते हुए बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने शहर के 4 और 5 स्‍टार होटलों को कोविड केंद्रों में बदले का निर्णय लिया है। इन कोविड सेंटरों में निजी अस्‍पतालों का स्‍टाफ मरीजों की देखभाल के लिए लगाया जाएगा। वर्तमान में  मुंबई के विभिन्न अस्पतालों में अब अतिरिक्त आइसीयू बेड का पर्याप्‍त इंतजाम किया जा चुका है। नगर आयुक्त आइएस चहल ने बताया कि प्रत्‍येक अस्‍पताल में  200 आईसीयू बिस्तरों समेत कुल 2000 बिस्तरों की क्षमता होगी। वहीं 70 प्रतिशत बिस्‍तरों पर ऑक्‍सीजन की सुविधा उपलब्‍ध रहेगी। 

गौरतलब है कि मुंबई में बीते 20 दिनों में 425 कोरोना मरीजों की मौत हो हुई है और 1 लाख 54 हजार 300 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं।। मुंबई में कोरोना संक्रमण के ताजा आंकड़े चौंकाने वाले हैं। बीते 24 घंटों में यहां  9,989 नए मामले दर्ज किए गए हैं और 58 संक्रमितों की मौत दर्ज की गई है। मुंबई के अलावा पुणे और नागपुर सहित राज्‍य के कई जिलों में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। ऐसे में प्रदेश में शीघ्र लॉकडाउन लगने की भी चर्चा जोरों पर है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान में महाराष्ट्र में अब तक एक करोड़ लोगों को टीके लगाए जा चुके हैं।