एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा- 2 कारणों से तेजी से फैला कोरोना वायरस

 

एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया। फाइल फोटो।
देश के सबसे बड़े अस्पताल एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा कि कोविड के केसों की बढ़ने के कई कारण हैं मगर मुख्य कारण पर गौर करें तो यह पता चलेगा कि दो ही वजहों के कारण कोरोना तेजी से फैला है।

नई दिल्ली, एएनआइ। देश में कोरोना काफी तेजी से फैल रहा है। ऐसे में दिल्ली भी इससे अछूता नहीं है। राजधानी में भी लगातार केस काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। देश के सबसे बड़े अस्पताल एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा कि कोविड के केसों की बढ़ने के कई कारण हैं मगर मुख्य कारण पर गौर करें तो यह पता चलेगा कि दो ही मुख्य वजह रही जिसके कारण कोरोना तेजी से फैला है। गुलेरिया के मुताबिक जनवरी-फरवरी में जब वैक्सीनेशन शुरू हुआ तब लोग कोरोना के प्रोटोकॉल को लेकर ढिलाई बरतनी शुरू कर दी। वहीं इसी दौरान वायरस में म्यूटेशन (बदलाव) हो गया जो काफी तेजी से फैल गया। इसी कारण वायरस इस बार तेजी से फैला है। बता दें कि कई बार लोग बिना मास्क के ही बाहर निकल जाते हैं।

रणदीप गुलेरिया ने यह भी लोगों से अपील की है कि जो भी लोग वैक्सीनेशन के लिए पात्रता रखतें हैं उन्हें आगे आकर वैक्सीन लेनी चाहिए। ज्यादा-से-ज्यादा लोग वैक्सीन लेंगे तब ही इस बीमारी को हम हरा सकेंगे। बता दें कि दिल्ली में कोरोना पिछली बार कि तुलना में काफी ज्यादा फैल रहा है। इस बार इस महामारी के चपेट में काफी लोग आ रहे हैं। बीमारी का संक्रमण दर 19 फीसद के करीब है। इस कारण दिल्ली के सारे पुराने रिकॉर्ड तोड़कर कोरोना के 19,486 के नए मामले शुक्रवार को मिले। वहीं देश में भी कोरोना का हाल काफी ज्यादा ही खराब है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, बीते 24 घंटे में देश में 2,34,692 नए संक्रमित मिले हैं। वहीं 1,341 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद देश में अब तक कुल संक्रमितों का आंकड़ा 1,45,26,609 पहुंच गया है।

बता दें कि एक स्वास्थ्यकर्मी ने बताया कि कई लोग बीमारी के लक्षण के बावजूद जानकारी सामने नहीं आने देते हैं। इस कारण वह दूसरों के लिए खतरा बनते हैं। वहीं सरकार कांटेक्ट ट्रेसिंग पर लगातार जो देती रही है। कांटेक्ट ट्रेसिंग के मामले में पिछले कुछ दिनों से ढिलाई बरती जा रही है। यह भी जानकारी आई कि हाल में ही दिल्ली के कालकाजी में रहने वाले एक शख्स जब संक्रमित हुए तब उनके कांटेक्ट ट्रेसिंग के मामले में प्रशासन ने ढिलाई बरती।