सुरक्षा बलों पर 400 नक्सलियों ने घात लगाकर बोला था हमला, बड़ी कार्रवाई के संकेत, गृहमंत्री शाह की अधिकारियों के साथ बैठक

 

छत्तीसगढ़ में तकरीबन 400 नक्सलियों के समूह ने सुरक्षाकर्मियों पर घात लगाकर हमला किया था।

छत्तीसगढ़ में तकरीबन 400 नक्सलियों के समूह ने सुरक्षाकर्मियों पर घात लगाकर हमला किया था। समाचार एजेंसी पीटीआइ ने यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों के हवाले से दी है। सूत्रों का कहना है कि नक्‍सलियों ने पूरी तैयारी के साथ धात लगाकर हमला बोला था।

नई दिल्‍ली/रायपुर, एजेंसियां। छत्तीसगढ़ में तकरीबन 400 नक्सलियों के समूह ने सुरक्षाकर्मियों पर घात लगाकर हमला किया था। समाचार एजेंसी पीटीआइ ने यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों के हवाले से दी है। सूत्रों का कहना है कि नक्‍सलियों ने पूरी तैयारी के साथ धात लगाकर हमला बोला था। नक्‍सली एलएमजी जैसे हथियारों से लैस थे। इस मुठभेड़ में सुरक्षा बलों के कम से कम 22 जवान वीरगति को प्राप्‍त हुए हैं जबकि 30 अन्य जख्‍मी बताए जाते हैं। इस बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह अपना चुनावी कार्यक्रम छोड़कर दिल्‍ली लौट आए हैं। वह आइबी और सीआरपीएफ के शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं।  

गृहमंत्री अमित शाह के आवास पर हो रही इस बड़ी बैठक में केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्‍ला, आइबी के निदेशक अरविंद कुमार और वरिष्‍ठ सीआरपीएफ अधिकारी मौजूद हैं। वहीं दूसरी ओर डीजी सीआरपीएफ कुलदीप सिंह ने कहा कि इस ऑपरेशन में किसी तरह की खुफिया विफलता नहीं थी। यदि ऐसा होता तो ऑपरेशन के लिए हमारे जवान मौके पर नहीं जाते। यदि ऑपरेशनल विफलता होती तो इतने नक्सली भी नहीं मारे जाते। नक्सलियों ने अपने साथियों के शवों को ले जाने के लिए तीन ट्रैक्टरों का इस्तेमाल किया। हालांकि कुलदीप सिंह ने यह नहीं बताया कि इस ऑपरेशन में कुल कितने नक्‍सली मारे गए हैं।

कुलदीप सिंह ने कहा कि मारे गए नक्‍सलियों की संख्‍या 25-30 से कम नहीं होना चाहिए। वहीं सूत्रों का कहना है कि सुरक्षा बलों के 1,500 जवानों की टुकड़ी ने बीजापुर-सुकमा जिले की सीमा के आसपास के क्षेत्र में नक्सलियों की मौजूदगी की गुप्‍त सूचना पर दोपहर के बाद तलाशी अभियान चलाया था। सुरक्षा बलों की टुकड़ी में सीआरपीएफ की विशेष कोबरा इकाई के जवान और इसकी नियमित बटालियनों की कुछ टीमें शामिल थीं। ऑपरेशन में छत्तीसगढ़ पुलिस से संबद्ध जिला रिजर्व गार्ड यानी डीआरजी और अन्य जवान शामिल थे।