दिल्ली की डायटिशियन वीना कुमारी ने बताईं 4 काम की बातें, पढ़िये और आसान कीजिए कोरोना से जंग


शाकाहारी लोग ओट्स व दालों को तीनों समय के भोजन में शामिल करें। पनीर भी खाएं।

 फेफड़ों को मजबूत रखने के लिए जरूरी डाइट लेनी आवश्यक है। लोगों को प्रोटीन और पानी की कमी नहीं होने देनी है। ये कहना है दिल्ली हार्ट एंड लंग इंस्टीट्यूट की वरिष्ठ डायटीशियन वीना कुमारी का।

नई दिल्ली/ग्रेटर नोएडा,  संवाददाता। कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर से सभी डरे हुए हैं। कोरोना संक्रमण फेफड़ों के लिए घातक है। ऐसे में फेफड़ों को मजबूत रखने के लिए जरूरी डाइट लेनी आवश्यक है। लोगों को प्रोटीन और पानी की कमी नहीं होने देनी है। ये कहना है दिल्ली हार्ट एंड लंग इंस्टीट्यूट की वरिष्ठ डायटीशियन वीना कुमारी का।

पानी खूब पीएं

प्रतिदिन व्यस्क व्यक्ति को तीन-चार लीटर पानी पीना चाहिए। पानी से फेफड़े मजबूत रहते हैं। तरबूज, खरबूज का सेवन करें।

विटामिन सी युक्त फलों का करें सेवन

विटामिन सी युक्त फल जैसे संतरा, मौसमी, आंवला का सेवन करना चाहिए। विटामिन सी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है।

प्रोटीन जरूरी बढ़ाएं

मात्रा यदि नानवेज व अंडा खाते हैं तो उसे जारी रखें। इनमें प्रोटीन काफी मात्रा में होता है जो काफी लाभदायक है। शाकाहारी लोग ओट्स व दालों को तीनों समय के भोजन में शामिल करें। पनीर भी खाएं।

एक मुट्ठी ड्राई फ्रूट्स जरूरी
एक मुट्ठी ड्राई फ्रूट्स दिन में एक बार जरूर खाएं। इससे प्रोटीन, ओमेगा-3 व 6 की जरूरतें पूरी होंगी। काजू, बादाम, अलसी, अखरोट को शामिल करें।

योग भी बना सहारा

वीना वोहरा (योग शिक्षक) का कहना है कि सर्वागासन पूरे शरीर के लिए फायदेमंद होता है। यह मस्तिष्क से लेकर पैरों की उंगलियों तक फायदा पहुंचाता है। इससे रक्त संचार बेहतर होता है। जिसकी वजह से त्वचा में निखार आता है और बाल सुंदर बनाने के साथ विभिन्न विकारों से बचाता है। मानसिक तनाव दूर होता है। इसे करने के लिए सुबह का समय और खुला वातावरण बेहतर रहता है। लेकिन खुली जगह नहीं है तो घर के अंदर भी कर सकते हैं। सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं। पैरों को धीरे-धीरे उठाएं और हाथों से कमर के निचले हिस्से को सहारा देते हुए उठाएं। गर्दन और कंधों पर पूरे शरीर को उठाएं। अपनी ठोड़ी को सीने से सटा कर रखें। तीस सेकेंड या उससे अधिक जितना आराम से रह सकते हैं मुद्रा को बनाए रखें। फिर धीरे-धीरे वापस पैर सीधे करके लेट जाएं। यह एक चक्र है इसी तरह से पांच चक्र करें। शुरुआत में एक या दो से शुरू कर सकते हैं और आसन करने के लिए किसी की मदद भी ले सकते हैं।