आगरा में आज संक्रमितों की संख्या 550 के पार, चार की मौत

कोरोना वायरस की दूसरी लहर आगरा में तबाही लेकर आई है।

ताजनगरी में कोरोना वायरस संक्रमण के मरीज हर दिन बना रहे रिकॉर्ड। बुधवार को सर्वाधिक 566 नए केस रिपोर्ट हुए थे। एक्टिव केस बढ़कर 3411 पर पहुंचे। कुल कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा अब 15056 पर। मौत का आंकड़ा 203 पर पहुंच चुका है।

आगरा, संवाददाता। ताजनगरी में कोरोना वायरस का कहर थमने की बजाय बढ़ता जा रहा है। अस्‍पतालों से लेकर दवाई की दुकानों तक पर भीड़ है। बहुत सी दवाओं की बाजार में किल्‍लत हो चुकी है। परिचितों में जहां नजर डालिए, वहां लोग संक्रमित होते जा रहे हैं। इस बीमारी से केवल घर में रहकर ही बचाव किया जा सकता है। इसलिए प्रयास करें कि घर में ही रहें। बुधवार को यहां 566 केस रिपोर्ट हुए, जो अब तक के सर्वाधिक हैं। अब तक कुल संक्रमित 15056 हो चुके हैं। वहीं एक्टिव केस बढ़कर अब 3411 हो गए हैं। मृतक संख्‍या 203 हो चुकी है। आगरा में अब तक कुल 11442 लोग स्‍वस्‍थ भी हो चुके हैं। बुधवार तक 699004 लोगों की जांच हो चुकी है। ठीक होने की दर घटकर 76.00 फीसद पर आ चुकी है। जो एक समय में 98 फीसद से अधिक थी।

कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज और डिस्चार्ज के लिए नई गाइड लाइन

कोरोना संक्रमित मरीज में मामूली लक्षण हैं लेकिन घर में अलग कमरा और शौचालय नहीं है तो होम आइसोलेशन की सुविधा नहीं दी जाएगी। ऐसे मरीजों को एल-1 कोविड अस्पताल में रखा जाएगा। होम आइसोलेशन में मरीज का तापमान, श्वसन दर, आक्सीजन सेचुरेशन दिन में तीन बार चेक किया जाएगा। होम आइसोलेशन वाले मरीजों केा प्रारंभिक जांच के दसवें दिन या भर्ती होने के सातवें दिन बिना जांच के डिस्चार्ज किया जाएगा। रोगी को उसके बाद घर में होम आइसोलेशन में सात दिन रहना होगा।

यह संक्रमित रह सकते एक साथ

कोरोना संक्रमित मरीज को अकेले ही आइसोलेट किया जाता है। मगर अब किसी परिवार में एक ज्यादा मरीज हैं तो वे एक कमरे में रह सकते हैं। एक शौचालय का प्रयोग भी कर सकते हैं। होम आइसोलेशन शुरू होने से दस दिन तक इंट्रीग्रेटेड कोविड एंड कंट्रोल सेंटर के जरिए फोन कर रोगियों में लक्षण के विकसित होने के संबंध में जानकारी ली जाएगी।

सांस लेने में दिक्कत होने पर एल-टू कोविड हास्पिटल में होंगे भर्ती कोरोना संक्रमित

मरीजों को सांस लेने में परेशानी हो रही है। सीने में जकडन और दर्द है। बेचैनी और घबराहट हो रही है। ऐसे मरीजों को एल-2 और एल-3 कोविड हास्पिटल में भर्ती किया जाएगा। जांच के बाद आक्सीजन की जरूरत न होने पर होम आइसोलेशन में भेज दिया जाएगा। गंम्भीर मरीज को एल थ्री कोविड हास्पिटल में किया जाएगा भर्ती कोरोना संक्रमित गंभीर मरीजों को एलथ्री कोविड हास्पिटल में भर्ती किया जाएगा। आक्सीजन का स्तर लगातार गिरने पर वेंटीलेटर की सुविधा दी जाएगी। कैंसर, एचआईवी सहित जिन मरीजों की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है, उन्हें आईसीयू में भर्ती किया जाएगा। गंभीर रोगी को आक्सीजन सुविधा युक्त स्टेप डाउन वार्ड में शिफ्ट किया जा सकेगा। रूम एयर पर आक्सीजन का स्तर 95 आने पर होम आइसोलेशन के लिए डिस्चार्ज किया जा सकेगा।