ऑस्ट्रेलियाई विद्वान ने कहा, भारत में नए कृषि कानूनों से लाखों किसानों को होगा लाभ

 

ऑस्ट्रेलियाई विद्वान ने विरोध करने वालों की बातों पर ध्यान नहीं देने को भी कहा

सिडनी में सेंटर फॉर इंडिपेंडेंट स्टडीज में स्कॉलर सल्वाटोर बबोनेस ने विदेश नीति पर एक लेख में कहा है कि गरीब किसानों की मदद के लिए नए कृषि सुधारों को लागू करने से भारत के अमीर किसानों ने रोक रखा है।

कैनबरा, एएनआइ। ऑस्ट्रेलिया के एक जाने माने विद्वान ने कहा है कि भारत में नए कृषि कानूनों से लाखों किसानों को लाभ होगा। इस विद्वान ने किसानों से इन कानूनों का विरोध करने वालों की बातों पर ध्यान नहीं देने को कहा है।

सिडनी में सेंटर फॉर इंडिपेंडेंट स्टडीज में स्कॉलर सल्वाटोर बबोनेस ने विदेश नीति पर एक लेख में कहा है कि गरीब किसानों की मदद के लिए नए कृषि सुधारों को लागू करने से भारत के अमीर किसानों ने रोक रखा है।

पीएम मोदी ने किसानों को सीमित समर्थन मूल्य की पेशकश की

उन्होंने लिखा है, '(पीएम) मोदी ने किसानों को सीमित समर्थन मूल्य की पेशकश की है, लेकिन कर्ज माफी रोक दी है। इसके बजाय, उन्होंने चुनाव बाद रचनात्मक सुधार लागू करने का वादा किया। विपक्षी इंडियन नेशनल कांग्रेस ने इसकी काट में पूरे देश में किसानों के कर्ज माफ करने का वादा किया-जिसे अर्थशास्त्रियों ने एक लोकलुभावन और महंगा समाधान बताया है।'

बबोनेस ने लिखा है कि कार्यकर्ताओं के साथ ही पश्चिमी देशों के नामचीन लोग नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं। पिछले साल सितंबर से ही इन कानूनों का विरोध हो रहा है, लेकिन कमजोर, निराश और कर्ज में डूबे किसानों का समर्थन इन्हें नहीं मिल पाया है।