मतदान के पहले मुर्शिदाबाद में भी हिंसा, बमबाजी में तृणमूल कार्यकर्ता की मौत

 

मुर्शिदाबाद में कांग्रेस कार्यकर्ता की हत्या के बाद तृणमूल कार्यकर्ता की बमबाजी में मौत

बंगाल में चुनावी हिंसा का दौर लगातार जारी है छठे चरण में मुर्शिदाबाद में कल मतदान है। ऐसे में मतदान से पहले मंगलवार को मुर्शिदाबाद के हरिहरपाड़ा में कांग्रेस कार्यकर्ता की हत्या के बाद एक तृणमूल कार्यकर्ता की बमबाजी में मौत हो गई।

 कोलकाता, राज्य ब्यूरो। बंगाल विधानसभा चुनाव में राजनीतिक हिंसा चरम पर है। कल मुर्शिदाबाद में कांग्रेस कार्यकर्ता की हत्या के बाद एक तृणमूल कार्यकर्ता की बमबाजी में मौत हो गई। घटना मुर्शिदाबाद के हरिहरपाड़ा में घटी है। मृतक का नाम बादल घोष है। इसके साथ ही जिले में मृतकों की संख्या बढ़ कर दो गई है।

  बता दें कि छठे चरण में मुर्शिदाबाद में कल मतदान है। मुर्शिदाबाद राजनीतिक हिंसा के लिए कुख्यात है। पुलिस के अनुसार सोमवार को आधी रात में संघर्ष के बाद मंगलवार रात को हरिहरपाड़ा के इलाके में तनाव बढ़ गया था। ग्रामीणों का कहना है कि बमबाजी रात करीब 10:30 बजे शुरू हुई। वे भयभीत हो गए। डर के मारे उस समय घर से कोई नहीं निकला। बाद में चीखें सुनाई दी और इलाके में काफी बमबाजी होती रही। थोड़ी देर बाद, स्थानीय लोग घर से बाहर आए और देखा कि एक युवक सड़क के किनारे पड़ा है।उसका नाम बादल घोष है। वह टीएमसी समर्थक था।उसकी गर्दन पर गहरे घाव के निशान थे। बमबाजी के कारण शरीर के कई हिस्से जल गए थे। खबर थाने को दी गई। पुलिस ने जाकर शव बरामद किया।

  कांग्रेस कार्यकर्ता की हुई थी हत्या

जिला तृणमूल नेता अशोक दास ने दावा किया कि कांग्रेस और भाजपा ने मिलकर इलाके के नियंत्रण की लड़ाई में तृणमूल कार्यकर्ता की हत्या कर दी है। बता दें कि मुर्शिदाबाद के हरिहरपाड़ा कल ही कासिम अली (52) नामक एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई थी। वह कांग्रेस का कार्यकर्ता था। कांग्रेस कार्यकर्ता हरिहरपाड़ा में रायपुर में एक चुनावी सभा से लौट रहा था। उस समय उन पर उपद्रवियों द्वारा कथित रूप से हमला किया गया था। पहले लाठी, लोहे की रॉड, धारदार हथियार से हमला किया। बाद में क्षेत्र में बड़े पैमाने पर बमबारी शुरू हो गई। घटना में 12 और कांग्रेस कार्यकर्ता घायल हो गए थे। स्थानीय लोगों ने आधी रात को बड़े पैमाने पर बमबाजी की थी।