कोरोना संक्रमण बढ़ने का असर ट्रेनों पर पड़ा, बड़ी संख्या में यात्री टिकट करा रहे रद

 

रेलवे के राजस्व का हो रहा है नुकसान

 इस संबंध में बिलासपुर रेलमंडल के सीनियर डीसीएम पुलकित सिंघल ने बताया कि संक्रमण बढ़ रहा है। ऐसे में कोई भी यात्री जोखिम नहीं उठाना चाहता। इसी वजह से रिफंड कराने वालों की संख्या बढ़ी है।

 बिलासपुर। कोरोना संक्रमण बढ़ने का असर ट्रेनों पर पड़ने लगा है। यात्री अब सफर करने से कतरा रहे हैं। टिकट आरक्षण (रिजर्वेशन) कराने वाले यात्रियों की संख्या में गिरावट आई है। इतना ही नहीं, जिन्होंने पहले रिजर्वेशन करा लिया है ऐसे यात्री टिकट रद कर रिफंड ले रहे हैं। यही वजह है कि रिफंड लेने वाले यात्रियों का आंकड़ा प्रतिदिन 350 से 400 के करीब पहुंच गया है। जब स्थिति सामान्य थी, तब यह आंकड़ा 100 से 150 के लगभग था।

यात्रियों ने कोरोना की सामान्य स्थिति में कराया था रिजर्वेशन

इसके चलते रेलवे की चिंता भी बढ़ गई है। उन्हें राजस्व का नुकसान हो रहा है। सफर रद करने वाले यात्रियों में महाराष्ट्र के अलावा मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, पंजाब व ओडिशा के यात्री शामिल हैं। इन यात्रियों ने उस समय रिजर्वेशन कराया था जब स्थिति सामान्य थी। माना जा रहा था कि यात्रा तारीख तक हालात और सामान्य हो जाएंगे। पर स्थिति इसके विपरीत रही।

इस संबंध में बिलासपुर रेलमंडल के सीनियर डीसीएम पुलकित सिंघल ने बताया कि संक्रमण बढ़ रहा है। ऐसे में कोई भी यात्री जोखिम नहीं उठाना चाहता। इसी वजह से रिफंड कराने वालों की संख्या बढ़ी है।

जोनल स्टेशन के आरक्षण केंद्र में हुए रिफंड

तारीख        यात्रियों की संख्या    रिफंड

एक अप्रैल     480                1,50,600 रूपये

दो अप्रैल      150               40,300 रूपये

तीन अप्रैल    190             75,795 रूपये

चार अप्रैल    210             71,505 रूपये

पांच अप्रैल   305            1,32,120 रूपये

छह अप्रैल    495            2,10,005 रूपये

सात अप्रैल   380           1,12,005 रूपये

आठ अप्रैल  320           1,61,420 रूपये

नौ अप्रैल     395             1,75,090 रूपये