दिल्ली के बाजारों में छाई वीरानी, वीकेंड कर्फ्यू का दिखा असर, कोरोना होगा बेअसर

 

कनाट प्लेस, पुरानी दिल्ली और करोलबाग इलाके में रही शांति

सदर बाजार इलाके में रहने वाले बच्चों को कभी ऐसा मौका नहीं मिलता था कि वह अपने ही इलाके की सड़कों पर आकर खेले लेकिन शनिवार को कर्फ्यू के दौरान बच्चे क्रिकेट समेत अन्य खेल खेलते हुए दिखे।बाद में परिवार के सदस्यों के समझाने पर बच्चे वापस घर लौट गए।

नई दिल्ली  राजधानी में बढ़ते कोरोना संक्रमित मरीजों और कोरोना की चेन काे तोड़ने के लिए दिल्ली सरकार द्वारा लागू किए गए साप्ताहिक कर्फ्यू असरदार रहा। दिल्लीवासियों ने कर्फ्यू का पालन किया, जिसके चलते सुबह से लेकर रात तक सड़कों और गली-मोहल्लों में सन्नाटा पसरा रहा। वहीं, सड़कों पर केवल आपातकालीन सेवा से जुड़े और ई-पास धारक व्यक्ति ही दिखे, जिनसे भी पुलिस ने रोककर पूछताछ की। वहीं, नई दिल्ली और पुरानी दिल्ली के प्रमुख बाजारों भी सन्नाटा पसरा रहा।

हमेशा से लोगों से भीड़ से गुलजार रहने वाले पुरानी दिल्ली के चांदनी चौक बाजार में सुबह सात बजे से ही लोगों का सन्नाटा पसरा रहा। इलाके के रहने वाले चंद लोग ही जरूरी काम से बाजार की प्रमुख सड़कों पर दिखें। वहीं, पुलिस कर्मी भी चांदनी चौक में तैनात रहे, जो बेवजह घूमने वाले लोगों से पूछताछ करते रहे। वहीं, सदर बाजार, खारी बावली, भागीरथ पैलेस समेत सभी बाजारों में यही हाल रहा।

वहीं, दुकानों पर काम करने वाले ठेले वाले दुकानों के बाहर बैठे रहे। ठेलेवालों ने कहा कि वह बाजार की सड़कों पर ही रहते हैं। ऐसे में प्रशासन द्वारा दिए कर्फ्यू के दौरान प्रशासन द्वारा दिए जाने वाले खाने के पैकेट से ही अपना गुजर करते हैं। उधर, करोलबाग एसडीएम बलराम मीणा ने बताया कि कर्फ्यू का सख्ती से पालन कराने के लिए प्रशासनिक अधिकारी पूरी तरह से मुस्तैद हैं। वहीं, जरूरतमंद लोगों की देखरेख के लिए भी प्रशासन की टीम निकल रही हैं, जो लोगों की मदद में जुटी है। वहीं, लगातार ई-पास बनाने का काम भी किया जा रहा है, जिससे लोगों की जरूरत पूरी हो सकें।

सूने बाजारों में खेलते रहे बच्चे

सदर बाजार इलाके में रहने वाले बच्चों को कभी ऐसा मौका नहीं मिलता था कि वह अपने ही इलाके की सड़कों पर आकर खेले, लेकिन शनिवार को कर्फ्यू के दौरान बच्चे क्रिकेट समेत अन्य खेल खेलते हुए दिखे। हालांकि बाद में परिवार के सदस्यों के समझाने पर बच्चे वापस घर लौट गए। वहीं, दरियागंज समेत अन्य इलाके में सुबह और शाम के वक्त सब्जी वाले सब्जी बेचते हुए दिखाई दिए। रमजान के दौरान लोगों के घरों तक सब्जी पहुंचाने का काम किया गया।

दिल्ली के दिल में भी पसरा सन्नाटा

लॉकडाउन के बाद से अपनी रंगत पर वापस लौटा दिल्ली का दिल कहे जाने वाला कनॉट प्लेस भी शनिवार को सूना पड़ा रहा। कनॉट प्लेस के इनर और आउटर सर्कल पर पुलिस का कड़ा पहरा रहा। हालांकि आपातकालीन सेवा से जुड़े लोग इस इलाके से होकर गुजरते रहे। वहीं, करोलबाग, पटेल नगर, पहाड़गंज और राजेंद्र प्लेस इलाके में भी जगह-जगह पुलिस ने बैरिकेडिंग कर लोगों से पूछताछ की। वहीं, बिना मास्क और बिना ई-पास के सड़कों पर घूमने वाले लोगों का कर्फ्यू का उल्लंघन करने की धाराओं में चालान भी किया गया।

घर में हुई पूजा और नमाज

कर्फ्यू के कारण शनिवार को लोगों ने नवरात्रि की पूजा अर्चना अपने घरों में रहकर ही की। वहीं, अब तक लोग प्रमुख मंदिर बंद होने के चलते अपनी कॉलोनियों के आसपास के मंदिरों में जाकर ही पूजा करते थे, लेकिन शनिवार को लोगों ने घरों में ही पूजा की। साथ ही रमजान के दौरान मस्जिदों में जाकर नमाज पढ़ने वाले रोजेदारों ने भी घरों में रहकर ही पांचों वक्त की नमाज पढ़ी।

नबी करीम इलाके में शाम को निकले लोग

नबी करीम इलाके में रहने वाले लोगों ने सुबह से लेकर शाम तक कर्फ्यू के नियमों का पालन किया, लेकिन देर शाम वह नियमों का उल्लंघन करते हुए भी दिखे। प्रेम नगर इलाके के बाजार में लोग बड़ी संख्या में एक साथ सड़कों पर आए, जिसके कारण कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा अधिक रहा। वहीं, सीसीटीवी कैमरे में भीड़ नजर आई।