ममता बनर्जी ने कहा- बंगाल विधानसभा चुनाव के बाद बाहरी लोगों को वापस लौटना होगा

 

कालचीनी के निमति मैदान में जनसभा को संबोधित करती मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ।

अलीपुरद्वार जिले के तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवारों के समर्थन में प्रचार करने पहुंची मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा पीएम और उनके मंत्री बोलते हैं झूठ नहीं खुलवाया एक भी बागान देश के जवान शहीद हो रहे और केंद्र सरकार की कैबिनेट चुनाव प्रचार में व्यस्त

जयगांव, संवाद सूत्र। अलीपुरद्वार जिले के तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवारों के समर्थन में प्रचार करने पहुंची मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा पर लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाया उन्होंने कहा कि भाजपा वाले केवल झूठ बोलते हैं, जब प्रधानमंत्री और गृहमंत्री ही झूठ बोलेंगे तो आम लोगों पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा। ममता ने कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र के मंत्री यहां आकर सात चाय बागानों को खुलवाने का वादा किए थे, लेकिन चुनाव खत्म होने के बाद ही सब भूल गए। तृणमूल की सरकार ने पांच बागानों को खुलवाया है और आने वाले दिनों में और भी बागान खुलवाने का प्रयास करेंगे।

मंगलवार को कालचीनी के निमति मैदान में सभा के दौरान ममता ने चुनाव आयोग और केंद्रीय बलों को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि केंद्रीय वाहिनी की मदद से भाजपा के गुंडे तृणमूल के उम्मीदवार और उनके समर्थकों पर हमले कर रहे हैं। जान से मारने की कोशिश की जा रही है। लेकिन चुनाव आयोग मूकदर्शक बनी हुई है। ममता ने चुनाव आयोग पर सवाल उठाते हुए कहा कि इतनी सख्त केंद्रीय वाहिनी के होने के बावजूद 3 फेज में सात से आठ हत्याएं क्यों हो गई। भाजपा के लोग बाहरी लोगों को राज्य में घुसा कर दहशत पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। तृणमूल के लोगों को बूथ तक पहुंचने नहीं दिया जा रहा है। सभा के दौरान ममता ने छत्तीसगढ़ में हुए हैं नक्सली हमले पर दुख जताते हुए कहा कि देश में 21 जवान शहीद हो गए हैं। लेकिन केंद्र सरकार की पूरी कैबिनेट बंगाल में चुनाव प्रचार करने में व्यस्त है। अपने देश के जवानों और आम लोगों से केंद्र सरकार को कोई मतलब नहीं है। इनका मकसद सिर्फ और सिर्फ सत्ता हासिल करना है।

वहीं, दूसरी ओर आज की सभा में मुख्यमंत्री ने अपने विकास कार्यों का का बखान करते हुए कहा कि पिछले 10 सालों में उनकी सरकार ने अलीपुरद्वार जिले में कई विकास कार्य किए हैं। इसमें सबसे प्रमुख अलीपुरद्वार को जिला बनाना, डुवार्स कन्या स्थापित करना, विश्वविद्यालय बनाने की तैयारी, तीन कॉलेज खोलना, चाय श्रमिकों के लिए तीन लाख घर देने की योजना समेत कई जनकल्याणकारी योजनाएं शामिल है। उन्होंने कहा कि तृणमूल की सरकार में चाय श्रमिकों के वेतन में भी काफी बढ़ोतरी हुई है। बंद चाय बागान के श्रमिकों को भी अनाज से लेकर हर प्रकार की सुविधाएं और 15 सौ रुपए फाउलाई दी जा रही है। अगर तीसरी बार सरकार बनती है तो बचे हुए काम को भी पूरा किया जाएगा।