गुजरात में आरटी पीसीआर टेस्ट अनिवार्य किए जाने से घटी विमान यात्रियों की संख्या, सेवाएं प्रभावित


आरटी पीसीआर टेस्ट अनिवार्य किए जाने से गुजरात में विमान सेवाएं प्रभावित। फाइल फोटो

गुजरात में अहमदाबाद के सरदार पटेल हवाई अड्डे से प्रतिदिन 180 विमान देश के विभिन्न राज्यों और अन्य कई देशों में जाते हैं। वहीं इन विमान सेवाओं के जरिए करीब 18000 यात्री प्रतिदिन हवाई सफर करते हैं।

अहमदाबाद,  संवाददाता।  देश के कई राज्यों में विमान यात्रियों के लिए आरटी पीसीआर टेस्ट अनिवार्य कर दिए जाने से 50 फीसद विमान सेवाएं प्रभावित हुई हैं। अहमदाबाद के सरदार पटेल हवाई अड्डे से प्रतिदिन 180 विमान देश के विभिन्न राज्यों वह अन्य कई देशों में जाते हैं। इन विमान सेवाओं के जरिए करीब 18000 यात्री प्रतिदिन हवाई सफर करते हैं। गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान व दिल्ली सहित देश के कई राज्यों में आरटी पीसीआर टेस्ट अनिवार्य कर दिए जाने से विमान यात्रियों की संख्या घट गई है या विमान सेवाएं रद करनी पड़ी है। एक मोटे अनुमान के तौर पर गुरुवार को ही लगभग 90 विमान अपने गंतव्य के लिए उड़ान नहीं भर सके।

कोरोना के लगातार बढ़ रहे मामलों के चलते गुजरात सरकार ने भी देश के अन्य राज्यों तथा विदेशों से आने वाले विमान यात्रियों के लिए आरटी पीसीआर टेस्ट अनिवार्य कर रखा है। पिछले 24 घंटे में गुजरात में कोरोना संक्रमण के 4021 मामले सामने आए, जबकि 35 लोगों की मौत हो गई। सिर्फ अहमदाबाद में 970 मामले सामने आए, जबकि नौ लोगों की मौत हुई है। इसके अलावा सूरत में 960, राजकोट में 520 व वडोदरा में 490 मामले सामने आए हैं। इधर, कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले और लॉकडाउन की आशंका के चलते अहमदाबाद और सूरत से प्रवासी श्रमिक अपने घरों की ओर लौटने लगे हैं। अधिकारियों के मुताबिक, अहमदाबाद और सूरत छोड़ने वालों की संख्या काफी कम है। उन्हें दूसरी जगह जाने से नहीं रोका जा सकता है। वहीं, राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव (श्रम और रोजगार) विपुल मित्रा ने बताया कि चूंकि लॉकडाउन नहीं है और ट्रेनें भी हैं। ऐसे में लोग कहीं भी जाने के लिए स्वतंत्र हैं। उनके मुताबिक, कुछ लोग अपने मूल स्थानों पर वापस जा रहे हैं। पिछले साल अचानक लॉकडाउन की वजह से भीड़ उमड़ पड़ी थी। मगर, इस बार प्रवासी श्रमिक एहतियात के तौर पर घर जा रहे हैं, उन्हें लगता है कि कुछ समय बाद ट्रांसपोर्ट सुविधा उपलब्ध नहीं होगी।