पी चिदंबरम बोले, टीके की कमी नहीं होने का दावा है खोखला

 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम देश में वैक्सीन की कमी की ओर इशारा करते हुए

कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने ट्वीट किया हमें सरकार को सावधान करना होगा कि इस फैसले से बहुत बड़ी जिम्मेदारी भी आ गई है। देश में पहली और सबसे बड़ी जरूरत तो वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चत करना है।

नई दिल्ली, प्रेट्र। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने देश में वैक्सीन की कमी की ओर इशारा करते हुए शनिवार को कहा कि अगर टीकाकरण के लिए पहुंचने वाले लोगों को अस्पताल से लौटना पड़ा तो सरकार को भारी विरोध का सामना करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि टीके की कमी नहीं होने का सरकार का दावा खोखला है। हालांकि, चिदंबरम ने एक मई से 18 वर्ष से ऊपर के सभी लोगों को टीका देने के सरकार के फैसले का स्वागत किया। 

लोगों को अस्पतालों से लौटना पड़ा तो सरकार को करना पड़ेगा विरोध का सामना

कांग्रेस नेता ने ट्वीट किया, हमें सरकार को सावधान करना होगा कि इस फैसले से बहुत बड़ी जिम्मेदारी भी आ गई है। देश में पहली और सबसे बड़ी जरूरत तो वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चत करना है। ऐसी बहुत सारी शिकायतें आ रही हैं कि टीके की आपूíत सही ढंग से नहीं हो पा रही है। कांग्रेस नेता के अनुसार, एक मई से टीकों की मांग बढ़ेगी, ऐसे में इनकी पूरी उपलब्धता सुनिश्चित करनी होगी और यदि लोगों को अस्पतालों से लौटना पड़ा तो सरकार को भारी विरोध का सामना करना पड़ेगा।

आनंद शर्मा ने कहा, कोरोना से मौतों के लिए मोदी सरकार जिम्मेदार

कांग्रेस के एक अन्य वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने कहा है कि सरकार की जवाबदेही लोकतंत्र का आंतरिक हिस्सा है। इसलिए आक्सीजन और दवाओं के अभाव में हो रही कोरोना मरीजों की मौत के लिए नरेंद्र मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार को इस बात का जवाब देना चाहिए कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर आने से पहले उसने कोई आपातकालीन योजना क्यों नहीं बनाई?