मंगल पर होने वाली इंजेंविनिटी की पहली उड़ान की फाइनल टेस्टिंग शुरू, यहां होगी लाइव स्‍ट्रीमिंग

 

नासा करेगा इंजेंविनिटी की उड़ान की लाइव स्‍ट्रीमिंग

नासा मंगल ग्रह पर होने वाली हेलीकॉप्‍टर इंजेंविनिटी की पहली उड़ान को लगभग तैयार हो चुका है। नासा इसकी लाइव स्‍ट्रीमिंग भी करेगा जो विभिन्‍न प्‍लेटफार्म पर देखी जा सकेगी। इसके लिए एक सवाल जवाब का सेशन भी नासा कर रहा है।

नई दिल्‍ली (ऑनलाइन डेस्‍क)। मंगल ग्रह पर नासा का मार्स रोवर परसिवरेंस और हेलीकॉप्‍टर इंजेंविनिटी उस पड़ाव के करीब पहुंच गए हैं जहां पर वो एक नए इतिहास को रचेंगे। नासा के मुताबिक 11 या 12 अप्रैल को इंजेंविनिटी अपनी पहली उड़ान शुरू करेगा। ये फ्लाइट सुबह 3:30 EDT (अमेरिका के स्‍थानीय समयानुसार) या 12:30 PDT (पेसेफिक डेलाइट टाइम) पर होगी। भारत में इसको रात के एक बजे देखा जा सकेगा।हालांकि नासा का कहना है कि फ्लाइट रात में भी हो सकती है। नासा इसकी लाइव स्‍ट्रीमिंग अपने टीवी, वेबसाइट और नासा एप पर भी करेगा। इसके अलावा ये सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म पर भी देखा जा सकेगा। इसको जेपीएल और फेसबुक के यूट्यूब चैनल पर भी देख सकेंगे।

इसको लेकर नासा ने हेलीकॉप्‍टर की फाइनल टेस्टिंग शुरू कर दी है। हेलीकॉप्‍टर के रोटर को घुमा कर देखा गया है। धीरे-धीरे इसकी स्‍पीड बढ़ाकर इसको चेक किया जा रहा है। नासा के ट्वीट के मुताबिक इसको 50 आरपीएम की रफ्तार पर फिलहाल चलाकर देखा गया है। Facebook

नासा के मुताबिक मार्स रोवर इस वक्‍त हेलीकॉप्‍टर इंजेविनिटी से करीब 60 मीटर (200 फीट) की दूरी पर खड़ा है, जहां से वोइंजेंविनिटी को देख रहा है। नासा परसिवरेंस मार्स रोवर के ट्वीट में कहा गया है कि मैं इंजेंविनिटी से लगभग आधे रास्ते पर चला गयाहूं जहां मैं लगभग 200 फीट (60 मीटर) की दूरी से इसकी फ्लाइट टेस्टिंग देखूंगा।

गौरतलब है कि नासा इस हेलीकॉप्‍टर की टेस्ट फ्लाइट के लिए पूरी तरह से तैयार है। नासा ने इसके रोटर को घुमाकर भी चेक किया है। ये बिल्‍कुल सही से काम कर रहा है। नासा ने एक ट्वीट के जरिए ये जानकारी दी है। रोवर परसिवरेंस की तरफ से किए गए इस ट्वीट में कहा गया है कि मेरे पास इस फ्लाइट को देखने और निगाह बनाए रखने के लिए के लिए जूमिंग कैमरे होंगे। आप हेलीकॉप्‍टर इंजेंविनिटी को मेरे नेविगेशन कैमरों से देख सकते हैं।

आपको यहां पर ये भी बता दें कि नासा की तरफ से आज इस उड़ान को लेकर एक सवाल जवाब का सिलसिला भी होगा। जिसमें कोई भी अपने मन में आ रहे सवालों के जवाब नासा से ले सकता है। इन सवालों के जवाब नासा के इस मिशन से जुड़े विशेषज्ञ देंगे। गौरतलब है कि नासा का मार्स रोवर परसिवरेंस लाल ग्रह के जेजीरो क्रेटर पर 18 फरवरी को उतरा था।

इस पथरीले ग्रह की सतह पर हेलीकॉप्‍टर इंजेंविनिटी करीब 30 दिनों तक उड़ान भरकर यहां की जानकारियां जुटाएगा। ये तीस दिन मंगल ग्रह के हिसाब से होंगे। फ्लाइट के दौरान इंजेंविनिटी को मार्स रोवर का पूरा सपोर्ट भी मिलता रहेगा। ये इमेज क्लिक करने से लेकर वहां के वातावरण से डाटा एकत्रित करने का भी काम करेगा और इससे जुटाई गई जानकारी को नासा के कंट्रोल रूम में भेजेगा।