प्रधानमंत्री ने मातृशक्ति का अपमान किया, लोकतंत्र बचाने के लिए एकजुट हो विपक्ष : संजय सिंह

 

जिला पंचायत सदस्यों के प्रत्याशियों की घोषणा करते हुए गाजियाबाद में बोले आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह

दिल्ली सरकार कोरोना से लड़ने के पुख्ता इंतजाम कर रही है। एक दिन में रिकार्ड 80 हजार लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। उत्तर प्रदेश सरकार लखनऊ में भी संक्रमितों को बेड उपलब्ध नहीं करा पा रही है। यह स्थिति काफी खराब है।

गाजियाबाद। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए देश के प्रधानमंत्री ने गलत भाषा का प्रयोग किया है। पश्चिम बंगाल की महिला शक्ति का प्रतीक ममता बनर्जी का अपमान मातृ शक्ति का अपमान है। प्रधानमंत्री को अपने पद की गरिमा का ख्याल रखते हुए ऐसी भाषा का प्रयोग करने से बचना चाहिए। रविवार को गाजियाबाद में यह बातें आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने आरडीसी स्थित एक होटल में यूपी पंचायत चुनाव के लिए प्रत्याशियों की घोषणा करते हुए कहीं।

उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने विपक्षी पार्टियों के नेताओं को जो चिठ्ठी लिखी है। उसे सभी को गंभीरता से लेना चाहिए। देश के संघीय ढांचे, संविधान व लोकतंत्र को बचाने के लिए पूरे विपक्ष को एक होना चाहिए। दिल्ली सरकार की शक्तियां छीनने की बात कहते हुए भी उन्होंने केंद्र सरकार को निशाने पर लिया। कोरोना के मामले लगातार बढ़ने के चलते लाॅकडाउन के संभावनाओं के सवाल पर उन्होंने कहा कि लाॅकडाउन समस्या का समाधान नहीं है।

दिल्ली सरकार कोरोना से लड़ने के पुख्ता इंतजाम कर रही है। एक दिन में रिकार्ड 80 हजार लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। उत्तर प्रदेश सरकार लखनऊ में भी संक्रमितों को बेड उपलब्ध नहीं करा पा रही है। यह स्थिति काफी खराब है। उत्तर प्रदेश सरकार को संक्रमितों के लिए पर्याप्त बेड की व्यवस्था करते हुए ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगवानी चाहिए। इस मौके पर दिल्ली सरकार के मंत्री राजेंद्र पाल गौतम, कस्तूरबा नगर से आप विधायक मदन लाल, आप के गाजियाबाद जिलाध्यक्ष चेतन त्यागी, आप की यूपी प्रदेश प्रवक्ता तरुणिमा श्रीवास्तव समेत तमाम पदाधिकारी मौजूद रहे।

किसान, बेरोजगार, दलित, पिछड़े जब्त कराएं भाजपा प्रत्याशियों की जमानत

आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने कहा कि यूपी में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए पहले 500 प्रत्याशियों के नाम घोषित किए गए थे। रविवार को उन्होंने 309 प्रत्याशियों के नाम घोषित किए। इस दौरान उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने बीते चार सालाें में जिस तरह दलित, पिछड़े, अल्पसंख्यक व किसानों पर अत्याचार किया है। उसका जवाब देने का यह समय यही है।

वोट की चोट से सबक सिखाएं

उत्तर प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्र के इस चुनाव में भाजपा सरकार को वोट की चोट से सबक सिखाएं और सभी भाजपा प्रत्याशियों की जमानत जब्त कराएं। उन्होंने यूपी राज्य निर्वाचन आयोग पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि इतिहास में पहली बार ऐसा चुनाव हो रहा है जिसमें प्रत्याशियों को मात्र पांच दिन का समय प्रचार के लिए दिया गया है। ऐसे में धन बल के जरिए तो प्रत्याशी अपना सिंबल क्षेत्रवासियों तक पहुंचा सकेंगे। वहीं आर्थिक रूप से कमजोर प्रत्याशियों को क्षेत्रवासियों तक अपना सिंबल पहुंचाने में भी काफी समस्या होगी।