एआइएमआइएम प्रमुख ओवैसी ने कहा- ममता सरकार की विफलता के लिए मुसलमानों को बनाया जा रहा बलि का बकरा

 

कोलकाता, राज्य ब्यूरो। एआइएमआइएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि बंगाल में ममता सरकार की विफलता के लिए मुसलमानों को बलि का बकरा बनाया जा रहा है। ओवैसी ने एक के बाद एक ट्वीट कर कहा कि बंगाल में सरकारी नौकरी, शिक्षा समेत विभिन्न क्षेत्रों में मुसलमान आज भी वंचित हैं। बंगाल में 27 फीसद मुसलमान हैं, जिनमें से सिर्फ छह फीसद सरकारी नौकरी करते हैं। केवल 11 फीसद मुस्लिम छात्र-छात्राएं ही उच्च शिक्षा अर्जित कर रहे हैं।

गौरतलब है कि ओवैसी का यह बयान तृणमूल कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के कथित ऑडियो टेप के सार्वजनिक होने के बाद आया है, जिसमें वे कह रहे हैं कि वामदलों, कांग्रेस व तृणमूल, सभी ने मुस्लिम वोट पाने को ध्यान में रखकर काम किया है। प्रशांत किशोर ने आगे कहा है कि जिसे मुसलमानों का वोट मिलेगा, वही जीतेगा, बंगाल में इसी सोच के साथ राजनीति होती आई है।

पीके के ऑडियो टेप पर ओवैसी ने कहा कि मुसलमान वामदल, कांग्रेस व तृणमूल के प्रति समर्पित मतदाता रहे हैं, फिर भी उन दलों ने मुसलमानों को कभी कुछ नहीं दिया। ममता मुसलमानों का वोट नहीं बंटने देते की अपील कर रही हैं। अगर बंगाल में मुसलमानों के तुष्टीकरण की राजनीति हो रही होती तो क्या ममता को भीख मांगने की नौबत आती? ममता सब जगह अपना गोत्र भी बताती फिर रही हैं। गौरतलब है कि भाजपा समेत विभिन्न राजनीतिक दल तृणमूल पर मुसलमानों का तुष्ट करने का लगातार आरोप लगाते आ रहे हैं।