बीच सड़क पर जानिए क्यों भिड़ गए लालू यादव के समधी कैप्टन अजय और हरियाणा के पूर्व मंत्री सुखबीर कटारिया, जमकर हुई बहस

 

कार्यकर्ताओं को एकत्र करने के लिए जगह बदलने पर हुआ विवाद

सोमवार दोपहर करीब एक बजे राज्यपाल के नाम उपायुक्त को ज्ञापन देते जाते समय पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव व पूर्व खेल मंत्री सुखबीर कटारिया के बीच सात मिनट तक तीखी बहस हुई। कांग्रेस की एक महिला नेता व अन्य नेताओं ने बीच-बचाव कर उन्हें अलग किया।

गुरुग्राम। कांग्रेसी नेताओं की आपसी फूट एक बार फिर से सड़क पर दिखी। तीन अप्रैल को रोहतक में हुई घटना के विरोध में सोमवार दोपहर करीब एक बजे राज्यपाल के नाम उपायुक्त को ज्ञापन देते जाते समय पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव व पूर्व खेल मंत्री सुखबीर कटारिया के बीच सात मिनट तक तीखी बहस हुई। कांग्रेस की एक महिला नेता व अन्य नेताओं ने बीच-बचाव कर उन्हें अलग किया। अगर दोनों को रोका नहीं जाता तो हाथापाई की नौबत भी बन सकती थी।

इस कारण हुआ विवाद

विवाद प्रदर्शन के लिए कार्यकर्ताओं को एकत्र करने के लिए जगह बदलने को लेकर हुआ। कैप्टन अजय यादव की ओर से कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को कमान सराय स्थित कांग्रेस कार्यालय में सुबह दस बजे बुलाया गया था। जबकि पूर्व मंत्री सुखबीर कटरिया की ओर से जारी मैसेज में सभी को सुबह 11 बजे मोर चौक के पास एकत्र होने का संदेश दिया गया था। कुछ कार्यकर्ता कांग्रेस कार्यालय पहुंचे तो कुछ मोर चौक। ऐसे में सभी को एकत्र होने में काफी समय लग गया। 

बीच रोड पर ही शुरू हुई बहस

दोनों जगहों से कार्यकर्ता लघु-सचिवालय की ओर चले तो सौ मीटर पहले कैप्टन अजय यादव व सुखवीर कटरिया का आमना-सामना हुआ। कैप्टन तल्खी से जगह बदलने के लिए वजह पूछी तो सुखबीर ने भी उसी अंदाज में जवाब दिया। जिसके बाद एक दूसरे का पार्टी में कद व कार्यकर्ताओं पर पकड़ की बात हुई और दोनों लाल-पीले हो गए। मौके की नजाकत देख पूजा शर्मा ने अन्य नेताओं ने अलग किया फिर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते लघु-सचिवालय पहुंच राज्यपाल के नाम उपायुक्त को ज्ञापन दिया।

दोनों ने नेताओं ने रखा अपना पक्ष

कार्यकर्ता हुए भ्रमित

जगह परिवर्तन किसी को बगैर बताए कर दिया गया। जिससे कार्यकर्ता भ्रमित हुए। जहां पर सुखवीर ने कार्यकर्ताओं को बुलाया वह खुद नहीं पहुंचे और उनके समर्थक भी नहीं आए।

कैप्टन अजय यादव, पूर्व मंत्री हरियाणा

बातचीत को मैं विवाद नहीं मानता

कोरोना संकट को देखते हुए जगह का परिवर्तन किया। पार्टी कार्यालय के पास पार्किंग के लिए खोदाई होने से जगह नहीं हैं। मोर चौक के पास खुली जगह है। कैप्टन साहब वरिष्ठ हैं बातचीत को मैं विवाद नहीं मानता हूं।

सुखबीर कटारिया पूर्व खेल मंत्री हरियाणा

प्रदेश सरकार को बताया तानाशाह

ज्ञापन देने पहुंचे कांग्रेसी नेताओं प्रदेश सरकार पर आराेप लगाया कि वह तानाशाह के रूप में काम कर रही है। कैप्टन अजय यादव ने कहा तीन अप्रैल को रोहतक में मुख्यमंत्री के कार्यक्रम का विरोध कर रहे किसान नेताओं पर पुलिस द्वारा बल प्रयोग किया गया। किसान आंदोलन कर रहे हैं तो उनके साथ अपराधी जैसा व्यवहार किया जा रहा है। जबकि लोकतंत्र में विरोध करने का अधिकार है। सुखबीर कटारिया ने कहा प्रदेश सरकार की दमनकारी नीति अधिक दिन नहीं चलते वाली है। जनता मंत्री और विधायकों को गांवों में नहीं घुसने दे रही है। धरना प्रदर्शन में राव कमलवीर, पकज डावर, रोहतास बेदी, लाल सिंह, रश्मि शर्मा, निर्मल यादव,पूजा शर्मा, सुमन सहरावत, प्रदीप जैलदार, अशोक टांक, भरत तोंगड सहित कई कांग्रेसी नेता शामिल हुए।