दिल्ली और इससे सटे शहरों में कहां खुले हैं स्कूल, क्या है गाइडलाइन; किन्हें मिली छूट

 

शिक्षकों और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को 5 अप्रैल (सोमवार) से स्कूल जाना होगा।

यूपी सरकार के आदेश के मुताबिक 11 अप्रैल तक के लिए 8वीं क्लास तक के स्कूलों को बंद करने की घोषणा कर दी है लेकिन शिक्षकों और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को कोई राहत नहीं है उन्हें स्कूल जाना पड़ रहा है।

नई दिल्ली/नोएडा।  दिल्ली-एनसीआर के साथ देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है। कोरोना का टीकाकरण जोर तो पकड़ रहा है, लेकिन संक्रमण के मामलों ने राज्य सरकारों की चिंता बढ़ा दी है। इस बीच दिल्ली और उत्तर प्रदेश में 8वीं तक के स्कूल बंद हैं, लेकिन शिक्षकों और शिक्षणेत्तर कार्य से जुड़े कर्मचारी जा रहे हैं। इस संबंध में उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव प्रताप सिंह बघेल (Pratap Singh Baghel, Secretary, Uttar Pradesh Basic Education Council) पहले ही आदेश जारी कर चुके हैं। आदेश के तहत 1-8वीं तक के स्कूल खुले हैं, लेकिन इसमें छात्र-छात्राओं को आगामी 11  अप्रैल तक नहीं आना है, लेकिन शिक्षक जा रहे हैं। इस आदेश पर सोमवार (5 अप्रैल) से ही अमल शुरू हो गया है। सोमवार से नोएडा और गाजियाबाद में स्कूल खुले और शिक्षक नजर आए। यह सिलसिला जारी है।

यह है गाइडलाइन

  • 12-15 छात्र ही बैठ सकेंगे एक क्लास रूम में
  • इस दौरान शारीरिक दूरी के नियमों का पालन कराने की जिम्मेदारी स्कूल प्रबंधन की है।
  • स्कूलों के कॉरिडोर में हैंडवाशिंग कंसोल और सेनिटाइजर उपलब्ध है।
  • कॉमन चीजों को इस्तेमाल से रोका जाना भी नियमों में शामिल है, यह स्कूल प्रबंधन की जिम्मेदरी है।
  •  10वीं और 12वीं के छात्र-छात्राओं की कक्षाएं ही जारी है। वैसे दिल्ली-एनसीआर में 9वीं और 11वीं के स्कूल भी खुल गए हैं।
  • छात्र-छात्राओं को 2 बैच में बुलाया जा रहा है।
  • कुछ स्कूलों में क्लास के छात्र-छात्राओं को एक दिन छोड़कर बुलाया जा रहा है।
  • छात्रों को स्कूल आने से पहले अपने अभिभावकों ने स्कूल को सहमति पत्र (Consent Form) भी दिया है।
  • स्कूल में छात्र-छात्राओं को खाना शेयर करने की अनुमति नहीं है।
  • छात्र-छात्राओं को अपने साथ पानी की बोतल ला रहे हैं।
  • सभी छात्र-छात्राओं के लिए मास्क लगाना अनिवार्य है।
  • छात्र-छात्राओं की क्लास 4 से 5 घंटे से अधिक नहीं चल रही है।
  • स्कूलों की तरफ से पिक-ड्रॉप फैसिलिटी अब दी जी रही है।

नोएडा और गाजियाबाद में खुले स्कूल

उत्तर प्रदेश में सत्तासीन योगी आदित्यनाथ सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देजनर सख्त कदम उठाते हुए 11 अप्रैल तक के लिए 8वीं क्लास तक के स्कूलों को बंद करने की घोषणा कर दी है, लेकिन शिक्षकों और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को कोई राहत नहीं है, उन्हें जाना पड़ रहा है। यही हाल दिल्ली का भी है। यहां पहले यह फैसला 4 अप्रैल तक के लिए ही लागू था, लेकिन बढ़ते मामलों को देखते हुए इसे एक सप्ताह के लिए बढ़ा दिया गया है। यानी  1-8वीं क्लास तक बच्चे स्कूल नहीं आ रहे, लेकिन शिक्षकों को उपस्थिति दर्ज करानी पड़ रही है।

नोएडा-ग्रेटर नोएडा में ज्यादातर स्कूल सोमवार से खुले, लेकिन पहली से 8वीं तक के बच्चों को स्कूल नहीं जाना है। वहीं, निजी स्कूलों ने 9वीं से 12 क्लास तक के छात्र-छात्राओं के लिए स्कूल खोलने का फैसला लिया है। वहीं, कुछ निजी स्कूल पूरी तरह से बंद हैं वहां के बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लास की व्यवस्था पूर्व की तरह लागू है।