बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच मान नहीं रहे भक्‍त, मथुरा-वृंदावन के मंदिरों में लिया गया अब ये फैसला

 

बांकेबिहारी मंदिर पर इस तरह उमड़ती भीड़ को देखकर कुछ प्रतिबंध लगाए गए हैं।

मथुरा में शुक्रवार को सर्वाधिक कोरोना वायरस के 113 नए केस आए हैं। तमाम मंदिरों और आश्रमों में निकल रहे कोरोना संक्रमित। श्रद्धालुओं की लापरवाही पड़ सकती है भारी। बांकेबिहारी मंदिर ने जारी की एडवाइजरी। बुजुर्गों और बच्‍चों को लेकर न आएं दर्शन करने। श्रद्धालुओं की संख्‍या में भी कटौती।

आगरा। कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर हालात अब पिछले साल से भी ज्‍यादा खराब नजर आ रहे हैं। पहले सख्‍ती थी, इसलिए लोग भी सचेत थे। इस बार लोग भी जमकर लापरवाही दिखा रहे हैं। मंदिरों की नगरी मथुरा-वृंदावन में कोरोना वायरस संक्रमण के रिकॉर्ड टूटते नजर आ रहे हैं। शुक्रवार को यहां सर्वाधिक 113 नए मामले रिपोर्ट किए गए हैं। विभिन्‍न मंदिरों और आश्रमों में श्रद्धालु और पुजारी कोरोना संक्रमित होते जा रहे हैं। मंदिरों में उमड़ती भीड़ के बीच टूटते कोरोना वायरस प्रोटोकॉल को देखते हुए अब अलग अलग मंदिरों के स्‍तर पर ही फैसले लिए जा रहे हैं। सीधे तौर पर कहा गया है कि मंदिरों में बुजुर्गों और बच्‍चों को लेकर दर्शन करने न आएं। साथ ही मास्‍क के बिना एंटी नहीं मिलेगी। 

वृंदावन में ठा. बांकेबिहारी मंदिर में आप दर्शन को आ रहे हैं, तो ध्यान रखें, बिना मास्क आपको एंट्री नहीं मिलेगी। मंदिर प्रबंधन ने बच्चों और बुजुर्ग श्रद्धालुओं को दर्शन को न आने की सलाह दी है। एक बार में श्रद्धालुओं के प्रवेश की संख्या भी 10 से 15 ही तय की गई है। शुक्रवार से नई व्यवस्था लागू हो गई। ठा. बांकेबिहारी मंदिर के प्रबंधक उमेश सारस्वत ने शुक्रवार को बताया, कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते प्रभाव को देखते हुए मंदिर प्रबंधन ने कोविड-19 की सरकारी गाइड लाइन का सख्ती से पालन कराने का निर्णय लिया है। इसके लिए हर प्रवेशद्वार पर सैनिटाइजेशन टनल लगाया गया है। बिना हाथ सैनिटाइज किए श्रद्धालु मंदिर में नहीं जा सकेंगे, उन्हें मास्क पहनना भी अनिवार्य कर दिया गया है। हर प्रवेशद्वार पर गार्डों की तैनाती की गई है। वह एक बार में 10 से 15 श्रद्धालुओं को ही मंदिर के अंदर आने दे रहे हैं। मंदिर के अंदर श्रद्धालु ज्यादा देर नहीं रुक पाएंगे। उधर, प्रबंधन ने पूरे मंदिर परिसर को सैनिटाइज कराया है। मंदिर के जगमोहन, परिसर से लेकर कार्यालय और प्रवेशद्वारों तक सैनिटाइज किए गए हैं।

गोवर्धन और बरसाना में भी सख्‍ती

कोरोना के बढ़ते प्रकोप के कारण श्रद्धालु गोवर्धन व बरसाना के मंदिरों में बिना मास्क के प्रवेश नहीं कर सकेंगे। एसडीएम ने मंदिर प्रबंधन के साथ बैठक कर निर्देश दिए। शुक्रवार को तहसील कार्यालय में एसडीएम राहुल यादव ने दानघाटी मंदिर, मुकुट मुखारविंद मंदिर, जतीपुरा मुखारविंद मंदिर और बरसाना के राधारानी मंदिर की प्रबंध व्यवस्था से जुड़े लोगों के साथ बैठक की। एसडीएम ने कहा कि कोरोना के चलते मंदिरों में आने वाले श्रद्धालु बिना मास्क के मंदिर में प्रवेश नहीं करें। प्रबंधन मंदिर के बाहर एक कर्मचारी तैनात करें। जो श्रद्धालु बिना मास्क के आए, उसे कर्मचारी मास्क भी उपलब्ध कराए। कर्मचारी के पास सैनिटािजर और थर्मल स्कैनर भी रहे। मंदिर में पानी से हाथ धोने की व्यवस्था भी की जाए। बैठक में रमाकांत गोस्वामी, कृष्ण मुरारी गोस्वामी, महेश कुमार व कन्हैया लाल, अशोक पुरोहित व लेखपाल अरविंद कुमार मौजूद रहे।