चिकित्सा आपूर्ति की राह में चीन ने अटकाया रोड़ा, निलंबित कीं मालवाहक विमानों की उड़ानें

 

भारत को लेकर चीन का दोहरा रवैया एक बार फिर उजागर हुआ है।

भारत को लेकर चीन का दोहरा रवैया एक बार फिर उजागर हुआ है। एक तरफ तो यह कोरोना वायरस महामारी से लड़ने में मदद की पेशकश कर रहा है दूसरी तरफ इसने चिकित्सा आपूर्ति की राह में रोड़ा भी अटका दिया है। पढ़ें यह रिपोर्ट...

बीजिंग, पीटीआइ। भारत को लेकर चीन का दोहरा रवैया एक बार फिर उजागर हुआ है। एक तरफ तो यह कोरोना वायरस महामारी से लड़ने में मदद की पेशकश कर रहा है, दूसरी तरफ इसने चिकित्सा आपूर्ति की राह में रोड़ा भी अटका दिया है। चीन की सरकारी विमान कंपनी सिचुआन एयरलाइंस ने अगले 15 दिनों की खातिर भारत के लिए अपने मालवाहक विमानों की उड़ानें निलंबित कर दी हैं। इससे चीन से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और अन्य मेडिकल सामान भेजने के निजी कारोबारियों के प्रयास में बाधा उत्पन्न होगी।

सहयोग का दिखावा

कोरोना के मामले बढ़ने के चलते बीजिंग द्वारा समर्थन और सहयोग की पेशकश किए जाने के बावजूद सिचुआन एयरलाइंस ने यह कदम उठाया है। सोमवार को बिक्री एजेंटों को लिखे एक पत्र में सिचुआन चुआनहांग लॉजिस्टिक्स कॉरपोरेशन लिमिटेड ने कहा है कि चीन से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के कारोबार के प्रयासों के बीच हमने छह रूटों पर उड़ानें निलंबित कर दी हैं। इनमें शियान-दिल्ली रूट भी शामिल है।

15 दिनों के लिए लिया फैसला

पत्र में कहा गया है कि भारत में महामारी की स्थिति को देखते हुए 15 दिनों के लिए यह फैसला लिया गया है। इसके बाद स्थिति की समीक्षा की जाएगी। पत्र में कहा गया है कि भारत के लिए उड़ानें हमेशा हमारे लिए अहम रही हैं। उड़ानें निलंबित होने से हमारी कंपनियों को काफी नुकसान होगा, लेकिन इन परिस्थितियों के लिए हमें खेद है। हमें उम्मीद है कि बिक्री एजेंट स्थितियों को समझने का प्रयास करेंगे।

थाईलैंड ने भारत की यात्रा पर लगाई रोक

बैंकॉक, रायटर। देश में कोरोना की तीसरी लहर रोकने के लिए थाईलैंड ने प्रयास करना शुरू कर दिया है। इसके तहत भारत से यात्रा के लिए इसने दस्तावेज जारी करना बंद कर दिया गया है। थाईलैंड के दिल्ली स्थित दूतावास ने बताया कि जो लोग हमारे देश के नागरिक नहीं हैं, उनके थाईलैंड में प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। यह रोक अगली सूचना तक जारी रहेगी। इस बीच, थाईलैंड के नागरिक विमानन प्राधिकरण ने इन खबरों से इनकार किया है कि समृद्ध लोग निजी विमानों से भारत से थाईलैंड आ रहे हैं।