कोरोना महामारी में भी एवरेस्ट पर रिकार्ड संख्या में पहुंचे पर्वतारोही, नहीं टूटा हौसला

 

कोरोना महामारी के बावजूद नहीं टूटे पर्वतारोहियों के हौसले। (फोटो: दैनिक जागरण/प्रतीकात्मक)

नेपाल ने भी इस साल ज्यादा परमिट किए जारी। बढ़ते कोरोनवायरस वायरस की महामारी के बावजूद नेपाल ने इस साल दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर जाने के लिए रिकॉर्ड 394 परमिट जारी किए हैं। कोरोना के बावजूद नहीं टूटा हौसला।

काठमांडू, आइएएनएस। कोरोना महामारी के बीच भी माउंट एवरेस्ट पर पर्वतारोहण करने की दीवानगी में कोई कमी नहीं है। नेपाल की सरकार ने भी इस बार रिकॉर्ड परमिट जारी कर दिए हैं। अभी तक बेस कैंप में दो हजार से ज्यादा पर्वतारोही, गाइड व अन्य सहायक पहुंच चुके हैं। नेपाल ने पिछले साल 381 परमिट जारी किए थे। इस बार उसने 394 से ज्यादा परमिट जारी किए हैं। ये नेपाल के पर्यटन विभाग ने ही आंकड़े जारी किए हैं। पर्वतारोहण सेक्शन की निदेशक मीरा आचार्य ने कोरोना महामारी के बीच माउंट एवरेस्ट पर भीड़ बढ़ने पर आश्चर्य व्यक्त किया है।

उन्होंने कहा कि महामारी के कारण उनको उम्मीद थी कि इस बार तीन सौ से यादा परमिट जारी नहीं हो सकेंगे। ऐसा नहीं हुआ। इसका मतलब है कि एवरेस्ट पर पर्वतारोहण का आकर्षण इतना ज्यादा है कि महामारी में भी पर्यटकों को नहीं रोक सकी। अभी तक दो हजार से ज्यादा पर्वतारोही, गाइड और अन्य सहायक बेस कैंप में पहुंच चुके हैं। ज्ञात हो कि माउंट एवरेस्ट पर पर्वतारोहण नेपाल का प्रमुख पर्यटन व्यवसाय है। इससे हजारों लोगों को रोजगार मिलता है। माउंट एवरेस्ट पर जाने के लिए नेपाल की सरकार ने कोविड 19 टेस्ट और क्वारंटीन आवश्यक किया हुआ है।