फर्जी दस्तावेज पर ऋण दिलाने वाला गिरफ्तार, हो रही पूछताछ

 

पांच लाख का ऋण दिलाने पर लिया था एक लाख 28 हजार कमीशन।

लोन ग्यासेराम नाम के एजेंट के माध्यम से जारी किया गया था। पुलिस ने मामले की जांच की तो पता चला कि ग्यासेराम ने लोन कराने के लिए ब्रह्म प्रकाश से एक लाख 28 हजार रुपये लिए थे। मामलेकी जांच की जा रही है।

नई दिल्ली,  संवाददाता। आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने फर्जी दस्तावेज पर ऋण दिलाने वाले एक एजेंट को गिरफ्तार किया है। 67 वर्षीय आरोपित अब तक कई लोगों को लाखों रुपये का ऋण (लोन) दिला चुका है। ऋण दिलाने के बदले वह लोगों से मोटा कमीशन लेता था। एडिशनल सीपी आरके सिंह ने बताया कि दिल्ली नागरिक सहकारी बैंक लिमिटेड की तरफ से 2014 में एफआइआर दर्ज कराई गई थी। इसमें कहा था कि ब्रह्म प्रकाश नाम के व्यक्ति ने पांच लाख का लोन लिया था। उसके दस्तावेज जांच में फर्जी पाए गए हैं।

यह लोन ग्यासेराम नाम के एजेंट के माध्यम से जारी किया गया था। पुलिस ने मामले की जांच की तो पता चला कि ग्यासेराम ने लोन कराने के लिए ब्रह्म प्रकाश से एक लाख 28 हजार रुपये लिए थे। जांच में ये भी पता चला है कि वह कई और लोगों को भी फर्जी दस्तावेज पर ऋण दिला चुका है। मामला सामने आने के बाद से ग्यासेराम फरार हो गया था। एसआइ भारत शर्मा की टीम लगातार आरोपित के ठिकाने पर छापेमारी कर रही थी। इसी बीच आरोपित ने कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया, इसके बाद पुलिस ने आरोपित को हिरासत में लिया। ग्यासेराम को सीबीआइ कोर्ट द्वारा 1996 में ठगी के एक मामले में छह साल की सजा मिल चुकी है। इसके अलावा दिल्ली के विभिन्न थानों में मुकदमे दर्ज हैं और वह एक दर्जन से अधिक बैंकों से फर्जी कागजों पर लोन ले चुका है।

युवक से मोबाइल लूटकर भाग रहे दो बदमाश गिरफ्तार

वहीं, मंडावली इलाके में युवक से मोबाइल लूटकर भाग रहे दो बदमाशों को पुलिस ने पीछा करके दबोच लिया। आरोपितों की पहचान सुधीर और बलदेव के रूप में हुई है। दोनों कल्याणपुरी इलाके के घोषित बदमाश हैं। पुलिस ने इनके पास से लूट का मोबाइल फोन भी बरामद किया है। पुलिस केस दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।