म्यांमार में अब सैन्य सरकार के निशाने पर कलाकार, विरोध-प्रदर्शन का समर्थन करनेवालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

 

म्यांमार में अब सैन्य सरकार के निशाने पर कलाकर, विरोध-प्रदर्शन का समर्थन करनेवालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

म्यांमार में सत्तारूढ़ जुंटा (Junta) के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शन का समर्थन करनेवाले हस्तियों के खिलाफ कार्रवाई तेज हो गई है। यहां पर तख्तापलट (Coup) के खिलाफ चल रहे विरोध-प्रदर्शन का समर्थन में इन कलाकरों ने अपना समर्थन दिया है

यंगून, एपी: म्यांमार में सत्तारूढ़ जुंटा (Junta) के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शन का समर्थन करनेवाले हस्तियों के खिलाफ कार्रवाई तेज हो गई है। यहां पर तख्तापलट के खिलाफ चल रहे विरोध-प्रदर्शन का समर्थन में इन कलाकरों ने अपना समर्थन दिया है। इस संदर्भ में जुंटा शासन ने सरकारी प्रेस में वांछितों की सूची प्रकाशित की है और उनके काम को लेकर चेतावनी भी दी गई है।

फर्जी खबरें फैलाने का लगा आरोप

म्यांमार के अखबार ग्लोबल न्यू लाइट में रविवार और सोमवार को प्रकाशित सूची में अभिनेताओं, अभिनेत्रियों, संगीतकारों का नाम दर्ज किया गया है। सोशल मीडिया को प्रभावित करने वालों के नाम हैं जिन पर दंड संहिता की धारा-505 (ए) का उल्लंघन करते हुए ‘राज्य की स्थिरता प्रभावित करने वाली फर्जी खबरों  को फैलाने का आरोप लगाया गया है। 

तीन साल की हो सकती है कैद!

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो इस धारा में दोषी करार दिए जाने पर तीन साल तक कैद की सजा हो सकती है। अखबार के पन्ने पर 20 लोगों की सूची उनकी तस्वीर, गृहनगर और फेसबुक पते के साथ प्रकाशित की गई है। इस लिस्ट में कई अभिनेताओं और निर्देशकों के खिलाफ फरवरी में भी मामला दर्ज किया गया था, लेकिन प्रदर्शन समर्थक हस्तियों के खिलाफ कार्रवाई में पिछले हफ्ते उस समय तेजी आई जब सेना नियंत्रित म्यावाड्डी टीवी ने सूची प्रसारित की थी।

बता दें कि म्यांमार में 1 फरवरी को आंग सान सू की की चुनी हुई सरकार का तख्तापलट करने के बाद से प्रदर्शन हो रहे हैं, लेकिन  पिछले एक हफ्ते में सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारियों में हुई हिंसक झड़प के बाद सेना ने यह सख्त कदम उठाया है। हताहतों और गिरफ्तारियों पर नजर रखने वाली संस्था असिस्टेंस एसोसिएशन फॉर पॉलिटिकल प्रीजनर्स की मानें तो म्यांमार में अबतक 564 प्रदर्शनकारियों की मौत हो चुकी है।