कोटा में नाबालिग ने कुल्हाड़ी से वार कर पिता की हत्या की

 

कोटा में नाबालिग ने कुल्हाड़ी से वार कर पिता की हत्या की। फाइल फोटो

कोटा में शुक्रवार को एक 16 वर्षीय लड़के ने अपने पिता की कुल्हाड़ी से वार कर कथित तौर पर हत्या कर दी। पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर आरोपित की तलाश शुरू कर दी है।

कोटा (राजस्थान), प्रेट्र।  राजस्थान के कोटा में शुक्रवार को एक 16 वर्षीय लड़के ने अपने पिता की कुल्हाड़ी से वार कर कथित तौर पर हत्या कर दी। पुलिस मामले की जांच कर रही है। इटवा पुलिस थाने के एसएचओ बजरंग लाल के मुताबिक, लगभग सुबह 3.30 बजे लड़के ने घर से एक कुल्हाड़ी ली और अपने पिता पर कई बार हमला किया, जिससे उसकी मौत हो गई, जबकि परिवार के अन्य सदस्य दूसरे कमरे में सो रहे थे। प्रारंभिक पूछताछ में पता चला है कि मृतक आबिद अली (45) हिस्ट्रीशीटर था। उसके खिलाफ हत्या और लूट सहित 27 आपराधिक मामले दर्ज थे। उसे कुछ मामलों में दोषी ठहराया गया था, उसे शराब की लत थी। यह भी पता चला कि अली अपनी पत्नी, दो बेटों और बेटी को मारता और परेशान करता था।

एसएचओ ने कहा कि दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले नाबालिग लड़के ने अपने पिता की हत्या कर दी, ताकि परिवार के सदस्यों को लगातार यातना और पिटाई से बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि शव को पोस्टमार्टम के बाद परिवार के सदस्यों को सौंप दिया गया था और अली के भाई की शिकायत पर पुलिस ने लड़के के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज किया, उसे हिरासत में लिया जाना बाकी है। 

इससे पहले उदयपुर जिले के फलासिया थाना क्षेत्र में इसी माह एक बुजुर्ग दंपती की हत्या कर दी गई। शनिवार देर सुबह तक वह अपने मकान के बाहर नहीं निकले, तब इसकी जानकारी ग्रामीणों को लगी और पुलिस को घटना से अवगत कराया। घटनास्थल का जायजा लेने के बाद बताया कि फलासिया थाना क्षेत्र के कोल्यारी निवासी 68 वर्षीय बुजुर्ग देवीलाल और उनकी पत्नी पुष्पा देवी (64) की अज्ञात बदमाशों ने हत्या कर दी। देवीलाल की किसी चीज से वारकर जान ले ली गई, जबकि पुष्पा देवी का गला घोंटा गया। बुजुर्ग दंपती के कोई संतान नहीं है और दोनों लंबे समय से एक साथ घर में रह रहे थे। देवीलाल अपने घर में किराने की दुकान चलाता था और लोगों को ब्याज पर पैसा देता था।

पुलिस ने बताया कि आरोपित देवीलाल के मकान में छत के रास्ते से घुसे तथा मुख्य गेट से फरार हो गए। पुलिस अधीक्षक डॉ. राजीव पचार ने मौका निरीक्षण करने के साथ उदयपुर से एफएसएल टीम को बुलाया। डॉग स्क्वायड के जरिए आरोपितों का सुराग लगाने का प्रयास किया, लेकिन उनका पता नहीं चला। आरोपितों की संख्या भी दो से ज्यादा होने की आशंका है। घर का सामान बिखरा हुआ है। ऐसे में लूट की मंशा से ही वारदात को अंजाम देने का शक है।