कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच गुजरात से लौटने लगे प्रवासी श्रमिक

 

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच गुजरात से लौटने लगे प्रवासी श्रमिक। फाइल फोटो

 कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले और लॉकडाउन की आशंका के चलते अहमदाबाद और सूरत से प्रवासी श्रमिक अपने घरों की ओर लौटने लगे हैं। अधिकारियों के मुताबिक अहमदाबाद और सूरत छोड़ने वालों की संख्या काफी कम है।

अहमदाबाद, प्रेट्र। गुजरात में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच प्रवासी श्रमिकों ने घर वापसी शुरू कर दी है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले और लॉकडाउन की आशंका के चलते अहमदाबाद और सूरत से प्रवासी श्रमिक अपने घरों की ओर लौटने लगे हैं। अधिकारियों के मुताबिक, अहमदाबाद और सूरत छोड़ने वालों की संख्या काफी कम है। उन्हें दूसरी जगह जाने से नहीं रोका जा सकता है। वहीं, राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव (श्रम और रोजगार) विपुल मित्रा ने बताया कि चूंकि लॉकडाउन नहीं है और ट्रेनें भी हैं। ऐसे में लोग कहीं भी जाने के लिए स्वतंत्र हैं। उनके मुताबिक, कुछ लोग अपने मूल स्थानों पर वापस जा रहे हैं। पिछले साल अचानक लॉकडाउन की वजह से भीड़ उमड़ पड़ी थी। मगर, इस बार प्रवासी श्रमिक एहतियात के तौर पर घर जा रहे हैं, उन्हें लगता है कि कुछ समय बाद ट्रांसपोर्ट सुविधा उपलब्ध नहीं होगी। 

इधर, जोनल रेल यूजर एडवाइजरी कमेटी के सदस्य योगेश मिश्रा के मुताबिक, प्रवासी श्रमिकों को आशंका है कि यदि सरकार एक और लॉकडाउन लगाती है तो वह यहं फंस सकते हैं। उनके मुताबिक, गुजरात हाईकोर्ट ने गत दिनों लॉकडाउन का सुझाव दिया था। इसके बाद ऐसे प्रवासी श्रमिक दहशत में जो पिछले साल लॉकडाउन के दौरान परेशानी झेल चुके हैं। इसके अलावा यूपी में आगामी 15 अप्रैल को होने वाले पंचायत चुनाव की वजह से भी लोग यहां से जा रहे हैं।

गौरतलब है कि गुजरात में बुधवार को कोरोना के के 3575 नए मामले सामने आए। 2217 लोग डिस्चार्ज हुए और 22 लोगों की मौत हुई है। प्रदेश में कुल मामले 3,28,453 हैं। कुल 3,05,149 डिस्चार्ज हो चुके हैं। सक्रिय मामले  18,684 हैं। कोरोना से अब तक प्रदेश में कुल 4,620 लोगों की जान जा चुकी है। कुल टीकाकरण 80,61,290 हो चुका है। प्रदेश के कई जिलों में कोरोना का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। इधर, कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से प्रदेश के कई जिलों में नाइट कर्फ्यू भी लगाया जा चुका है।