सीएम विजय रूपाणी बोले, गुजरात सरकार लॉकडाउन के पक्ष में नहीं

 

सूरत में सरकार ने 12500 रेमेडिसविर इंजेक्शन की व्यवस्था की। फाइल फोटो

सीएम विजय रूपाणी ने शनिवार को कहा कि गुजरात सरकार लॉकडाउन के पक्ष में नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर स्थानीय स्तर पर कोई स्वैच्छा से कोई इस तरह का उपाय करता है तो हम ऐसा करने के लिए उसका स्वागत करते हैं।

अहमदाबाद, प्रेट्र।  कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सीएम विजय रूपाणी ने शनिवार को कहा कि गुजरात सरकार लॉकडाउन के पक्ष में नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर स्थानीय स्तर पर कोई स्वैच्छा से इस तरह का उपाय करता है तो हम ऐसा करने के लिए उसका स्वागत करते हैं। रूपाणी के मुताबिक, लोगों की समस्याओं को देखते हुए राज्य सरकार लॉकडाउन लगाने के लिए तैयार नहीं है। हमने पहले ही 10 घंटे के लिए कर्फ्यू लगा दिया है। अहमदाबाद में सोला रोड का बाजार संगठन ने शनिवार और रविवार को लॉकडाउन लगाने का भी निर्णय लिया। दो दिनों के लिए 'जनता' कर्फ्यू भी लगाया जा रहा है। पालनपुर शहर में कुछ व्यापारियों ने अपनी दुकानें खुली रखीं। गुजरात में शुक्रवार को कोरोना के 4541 नए मामले सामने आए। प्रदेश में कुल मामलों की संख्या 3,37,015 तक पहुंच गई है। इस बीच, सीएम ने इन खबरों का खंडन किया कि राज्य सरकार कोरोना संक्रमण के कारण आंकड़ों की गिनती पर सही डेटा छिपा रही थी।

सूरत में सरकार ने 12500 रेमेडिसविर इंजेक्शन की व्यसस्था की

अहमदाबाद से जागरण संवाददाता के मुताबिक, गुजरात के सूरत में कोरोना के इलाज के लिए जरूरी रेमेडिसविर इंजेक्शन की कमी को देखते हुए सरकार ने 12 हजार पांच सौ इंजेक्शन की व्यवस्था की है। 10 हजार इंजेक्शन गुवाहाटी से एअरलिफ्ट कर सूरत पहुंचाए गए। उधर, भाजपा कार्यालय पर भी इंजेक्शन मुफ्त में वितरण करना शुरू कर दिया है। गुजरात में कोरोना संक्रमण की संख्या लगातार बढ़ने के चलते इसके इलाज के लिए जरूरी रेमेडिसविर इंजेक्शन की लगातार कमी महसूस की जा रही थी। अहमदाबाद व सूरत में इंजेक्शन की काफी अधिक मांग हो रही थी। इसके बाद कई फार्मा कंपनियों ने तथा अस्पतालों ने भी मरीजों के परिजनों को सीधे इंजेक्शन देने का एलान किया था। इसके अलावा प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सीआर पाटिल ने भी सूरत में पार्टी की ओर से 5000 इंजेक्शन मुफ्त वितरित करने का ऐलान कर दिया।

इसके तुरंत बाद मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी सूरत मैं इंजेक्शन की कमी को देखते हुए 10,000 अतिरिक्त इंजेक्शन गुवाहाटी से एयरलिफ्ट कराकर सूरत पहुंचाएं। यह सभी इंजेक्शन सूरत के किरण हॉस्पिटल को पहुंचाए गए हैं, जो पूरे जिले में इसका सरकारी नेटवर्क से वितरण करेगा। इसके अलावा सरकार ने जिला कलेक्टर को ढाई हजार इंजेक्शन और अतिरिक्त भेजवाए हैं, ताकि इंजेक्शन की कमी को लेकर मरीजों के परिजनों में अफरातफरी ना हो। इससे पहले मुख्यमंत्री रूपाणी ने प्रदेश के लोगों से भी अपील की है कि कोरोना महामारी से हम पूरे एक साल से जंग लड़ रहे हैं। पहले इसकी वैक्सीन नहीं थी, तब भी कोरोना से जूझ रहे थे। अब हमारे पास वैक्सीन भी आ गई है। सरकार ने कोरोना महामारी की स्थिति को देखते हुए वरिष्ठ चिकित्सकों की एक कोर टीम बनाई, जिसकी बैठक वीरवार को गांधीनगर में बुलाई गई थी। वरिष्ठ चिकित्सक वीएन शाह ने राज्य की कोरोना महामारी की स्थिति को देखते हुए लोगों से अपील की है कि यह एक तरीके की युद्ध जैसी परिस्थिति है तथा लोगों को मास्क सैनिटाइजर तथा शारीरिक दूरी का पालन करना ही चाहिए। कोरोना की दूसरी लहर काफी घातक है तथा इससे बचने के सभी उपाय लगातार करते रहने चाहिए।