घबराएं नहीं जरूर लगवाएं कोरोना की वैक्सीन

देश में तेजी से बढ़ रही कोरोना टीकाकरण की रफ्तार। (फोटो: एपी)

देश में कोरोना टीकाकरण तेजी से जारी है। देश भर में अब तक सात करोड़ से ज्यादा कोरोना वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी है। 1 अप्रैल से 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को कोरोना का टीका लगाया जा रहा है। पहली अप्रैल से रफ्तार बढ़ी है।

नई दिल्ली। देश में सात करोड़ से ज्यादा टीके लगाए जा चुके हैं। टीकाकरण अभियान विशेषज्ञों की देखरेख में पूरी तत्परता के साथ चलाया जा रहा है। विशेषज्ञों के अनुसार, देशवासियों को लगाई जा रहीं कोविशील्ड व कोवैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित और असरदार हैं। कोरोना की जंग में टीका ही सबसे प्रभावी हथियार साबित होगा। सभी लोगों के टीकाकरण के बाद हम इस जंग को जीत लेंगे। हां, टीकाकरण के संबंध में चिकित्सकों की सलाह और सरकार की तरफ से जारी दिशा-निर्देश का अनुपालन पूरी तरह सुनिश्चित करना होगा।

देश में कोरोना की दूसरी लहर तेजी से फैल रही है।  दैनिक संक्रमितों की संख्या 90 हजार पार हो गई है। दूसरी तरफ टीकाकरण अभियान भी गति पकड़ रहा है। टीके की उपलब्धता और उसकी खपत के मद्देनजर केंद्र सरकार ने 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को टीका लगाने की इजाजत दे दी है। लोग टीके लगवा रहे हैं, लेकिन इसकी गति और तेज करने की जरूरत है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों का टीकाकरण हो सके। अफवाहों पर कतई ध्यान न दें और बेङिाझक टीके लगवाएं।

सामान्य है प्रतिकूल असर

विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना वैक्सीन लगने के बाद शरीर व बांह में दर्द, चकत्ते बनना व बुखार आना आदि अपेक्षित है। हालांकि, ऐसा भी चंद लोगों के साथ हो रहा है। खसरा, मम्प्स व रूबेला (एमएमआर) की प्रचलित वैक्सीन लेने के बाद भी ऐसी समस्याएं आती हैं। 10 फीसद लोगों को दर्द व सुई लेने के स्थान पर सूजन जैसे हल्के प्रतिकूल असर होते हैं। 5-10 फीसद लोगों को बुखार भी आ जाता है।

7.5 करोड़ से अधिक टीकाकरण

इस बीच देश में कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण जारी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, देश में अब तक 7 करोड़ 59 लाख 79 हजार 651 लोगों को टीका लगाया चुका है। इसमें से 27,38,972 टीकाकरण बीते एक दिन में किया गया है।