डीजीपी दिलबाग सिंह बोले- आतंकियों के खिलाफ तलाशी अभियान जारी रहेंगे, नशा कारोबारियों से सख्ती से निपटेंगे

 

जम्मू कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह

जम्मू कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कश्मीर में सक्रिय आतंकियों के खात्मे के लिए अभियान को जारी रखने के अलावा युवा पीढ़ी को नशों में धकेलने के लिए सक्रिय नशे कारोबारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए।

जम्मू, राज्य ब्यूरो। जम्मू कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह ने काेराेना संक्रमण के बढ़ते मामलों पर चिंता जताते हुए पुलिस अधिकारियों को बीते साल क्वारंटाइन केंद्रों के लिए जुटाई गई सभी सुविधाओं को फिर से बहाल करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक यूनिट अपने मानव बल के अनुरूप क्वारंटाइन केंद्रों की व्यवस्था करें और निर्धारित कोविड-19 निर्देशावली का अनुपालन सुनिश्चित बनाया जाए। उन्होंने कश्मीर में सक्रिय आतंकियों के खात्मे के लिए अभियान को जारी रखने के अलावा युवा पीढ़ी को नशों में धकेलने के लिए सक्रिय नशे कारोबारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए।

पुलिस महानिदेशक ने यह निर्देश पुलिस मुख्यालय में एक बैठक में सुरक्षा परिदृश्य, दरबार मूव की तैयारियों और कोरोना संक्रमण से जुड़े मुद्दों का जायजा लेते हुए दिए। पुलिस महानिदेशक ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए आत्म अनुशासन बहुत जरुरी है। मौजूदा संकट में पुलिस के जवानों व अधिकारियों काे न सिर्फ खुद को इस महामारी से बचाना है बल्कि इससे जूझ रहे आम लोगों की भी अपने संसाधनों से मदद करनी है। सभी अधिकारी अपने अपने कार्याधिकार क्षेत्र में कोविड-19 निर्देशावली को पूरी तरह से प्रभावी बनाएं।

दरबार मूव की तैयारियों का जिक्र करते हुए उन्होंने संबंधित अधिकारियों से कहा कि पुलिस संगठन के सभी विंग इस बात को सुनिश्चित बनाएं कि उनके कार्यालय जम्मू और श्रीनगर दोनों ही जगह क्रियाशील रहें। इसके लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाने चाहिए। प्रदेश के समग्र सुरक्षा परिदृश्य का जायजा लेते हुए पुलिस महानिदेशक ने आतंकियों के खिलाफ अभियान लगातार जारी रखने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि आतंकियों और उनके ओवरग्राउंड वर्करों व समर्थकों के साथ साथ नशा कारोबारियों व असामाजिक तत्वों के खिलाफ किसी भी तरह की नरमी नहीं बरती जाए। किसी को भी माहौल बिगाड़ने की इजाजत नहीं होनी चाहिए। उन्होंने इस दौरान महिला वाहिनियों और सीमांत वाहिनियों के गठन की लंबित प्रक्रिया को फिर से शुरु करनेे के लिए भी संबधित अधिकारियों को निर्देश दिया और कहा कि भर्ती प्रक्रिया पूरी पारदर्शिता के साथ जल्द पूरी की जाए।