नैनीताल के पूर्व निदेशक वैज्ञानिक अनिल पांडेय को कोरोना से निधन

Aries नैनीताल के पूर्व निदेशक वैज्ञानिक अनिल पांडेय को कोरोना से निधन

Aries नैनीताल के पूर्व निदेशक वैज्ञानिक अनिल पांडेय का हल्द्वानी के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वह इलाज के लिए निजी अस्पताल मै भरती थे। उनकी कोरोना रिपोर्ट पोजिटिव थी। हल्द्वानी निवासी पांडेय अपने पीछे पत्नी माता व पुत्र को बिलखता छोड़ गए।

नैनीताल, संवाददाता :  नैनीताल के पूर्व निदेशक वैज्ञानिक अनिल पांडेय का हल्द्वानी के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वह इलाज के लिए निजी अस्पताल मै भरती थे। उनकी कोरोना रिपोर्ट पोजिटिव थी। हल्द्वानी निवासी पांडेय अपने पीछे पत्नी माता व पुत्र को बिलखता छोड़ गए। वह एक महान वैज्ञानिक थे कई देशों में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुके थे। उन्हें कई राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके है। उनके निधन पर देवभूमि उद्योग व्यापार मण्डल ने गहरा दुख प्रकट किया है।

डा.पांडे देवस्थल में एशिया महाद्वीप की सबसे बड़ी 3.6 मीटर व्यास की दूरबीन को स्थापित करने में हर संभव कोशिश की थी। उनके ही प्रयास से यह प्रोजेक्ट निर्धारित समय में पूरा हो सका था। वह इस परियोजना के प्रोजेक्ट मैनेजर थे। इसके अलावा वे देवस्थल में इंडो, बेल्जियम, कनाडा के सहयोग से लगने वाली चार मीटर व्यास की लिक्विड मिरर दूरबीन के भी प्रोजेक्ट मैनेजर के रूप में कार्य कर चुके हैं। 

डीएसबी से एमएससी करने वाले डा.पांडे ने 1980 में बतौर साइंटिस्ट एरीज में ज्वाइन किया। आप्तिकी ज्योर्तिविज्ञान में ख्याति प्राप्त तथा राष्ट्रीय विज्ञान एकादमी के फैलो डा.पांडे तरुण वैज्ञानिक पुरस्कार, विक्रम साराभाई अवार्ड से भी सम्मानित हो चुके हैं। अब तक उनके 150 से अधिक शोध पत्र विभिन्न राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय शोध पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं।