पीएम के साथ बैठक में बोले अरविंद केजरीवाल- दिल्ली के कोटे की ऑक्सीजन राज्य रोक लें तो मैं किसे फोन करूं

 

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की फाइल फोटो।

पीएम नरेंद्र मोदी के साथ ऑनलाइन के जरिये हुई बैठक में अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर यहां ऑक्सीजन पैदा करने वाला प्लांट नहीं है तो क्या दिल्ली के लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिलेगी?

नई दिल्ली, संवाददाता। दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी का मुद्दा सीएम अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को पीएम मोदी के साथ हुई बैठक में भी उठाया। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कोरोना मरीजों के हालात ऐसे हैं कि देखा नहीं जाता है। बीमार लोगों के बारे में सोचकर रातभर नहीं नहीं आती है। दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी कमी है। पीएम मोदी के साथ ऑनलाइन के जरिये हुई बैठक में अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर यहां ऑक्सीजन पैदा करने वाला प्लांट नहीं है तो क्या दिल्ली के लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिलेगी? अरविंद केजरीवाल ने यह भी कहा कि कृपया सुझाव दें कि केंद्रीय सरकार में मुझे किससे बात करनी चाहिए, जब दिल्ली के लिए एक ऑक्सीजन टैंकर को दूसरे राज्य में रोका जाए?

अरविंद केजरीवाल ने ऑक्सीजन की कमी के मुद्दे पर कहा कि पीएम सर मैं आपसे हाथ जोड़कर प्राथर्ना करता हूं कि ऑक्सीजन के बढ़े हुए कोटे को दिल्ली तक पहुंचने में हमारी मदद करें। दिल्ली को 700 टन की जरूरत है , आपने 480 टन कर दिया उसका शुक्रिया, पिछले 24 घंटे में इस बढाए आक्सीजन कोटे से 350 टन आक्सीजन दिल्ली पहुंची है।

पीएम सर जब से ऑक्सीजन का संकट शुरू हुआ है मेरे फोन बजते रहते हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन का संकट बना हुआ है। कारण जानने की कोशिश करते हैं तो पता चलता है कि पीछे जिन राज्यों से ऑक्सीजन की सप्लाई आ रही है उन राज्यो में ऑक्सीजन के ट्रक को रोका हुआ है। आपने बहुत सही समय मीटिंग बुलाई है, लेकिन अगर दिल्ली के किसी अस्पताल में सिर्फ आधे या 1 घटे की आक्सीजन सप्लाई बची है तो मैं किस केंद्र के मंत्री से बात करूं। मैं जानना चाहता हूं कि अगर कोई राज्य दिल्ली के कोटे की आक्सीजन रोक ले तो मैं फोन उठाकर किस से बात करूं। हालात गम्भीर हो चुके हैं, हम अपने लोगों को मरने के लिए नहीं छोड़ सकते। सर तुरंत कठोर और सख्त कदम नही उठाए गए तो त्रासदी हो सकती है। आप उन राज्यों के सीएम से बात कर लें जहां ऑक्सीजन के ट्रक रोके जा रहे उनसे बात कर लें तो हमारी बहुत मदद हो जाएगी। सीएम होने के बाद भी मैं कुछ नहीं कर पा रहा है। डर लगा रहता है कि ऑक्सीजन की कमी से बड़ा हादसा न हो जाए।

पीएम सर देश मे बढ़ते कोरोना के मामलो को लेकर देश मे एक नेशलन प्लान बनना चाहिए। इस नेशनल प्लान के अंतर्गत आर्मी को तुरंत देश के अलग-अलग ऑक्सीजन प्लांट को आर्मी के जरिए केंद्र सरकार को टेकओवर करना चाहिए आक्सीजन प्लांट से निकलने वाले हर वहीं कल के साथ आर्मी की एक गाड़ी भी मौजूद रहे ताकि कोई भी उसे रोकने की हिम्मत ना कर सके। केंद्र सरकार ने जो दिल्ली का आक्सीजन का कोटा बढ़ाया है करीब 100 टन आक्सीजन उड़ीसा और पश्चिम बंगाल से आनी है। हमारी कोशिश है जल्द से जल्द उन राज्यों से ऑक्सीजन को लाया जा सके लेकिन मेरा आपसे निवेदन है कि हवाई रास्ते से अगर उसे दिल्ली तक भेजा जा सके तो जल्दी आक्सीजन की सप्लाई हो सकेगी।

आक्सीजन एक्सप्रेस के तहत राजधानी दिल्ली को आक्सीजन की सप्लाई की जाए। वैज्ञानिकों ने जो वैक्सीन बनाई है उसके लिए अब केंद्र और राज्य सरकारों को मिलकर काम करना है, कि सब लोगों को कम से कम समय में अपने नागरिकों को वैक्सीन लगवा पाएं। वैक्सीन की एक कंपनी ने हाल ही में दाम जारी की यह कंपनी केंद्र सरकार को और राज्य सरकार को अलग-अलग दाम पर वैक्सीन उपलब्ध करा रही है एक देश में एक ही समान के अलग-अलग दाम कैसे हो सकते हैं। वन नेशन वन रेट होना चाहिए सारे देश को एक ही दाम में वैक्सीन मिलनी चाहिए। जिस रेट पर केंद्र सरकार को वैक्सीन मिल रही है उसी रेट पर राज्य सरकार को भी वैक्सीन मिलनी चाहिए।

बता दें कि दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में ऑक्सीजन खत्म होने से या फिर कुछ घंटे के ही ऑक्सीजन बचने की खबरें लगातार आती रहती हैं। शुक्रवार सुबह से सर गंगाराम अस्पताल और दक्षिण दिल्ली के मैक्स साकेत और मैक्स सम्राट अस्पताल में ऑक्सीजन की आपूर्ति की गई है।