केंद्र सरकार की वैक्सीन नीति पर कांग्रेस ने उठाया सवाल, कहा- राज्यों को भी केंद्र की दरों पर मिले वैक्सीन


कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने उठाए सवाल। (फोटो: दैनिक जागरण)

कांग्रेस ने लगाया केंद्र सरकार पर आरोप। पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने कहा राज्यों को भी केंद्र की दरों पर मिले वैक्सीन। साथ ही कहा- निजी हाथों के भरोसे ना छोड़ें टीकाकरण कार्यक्रम।

नई दिल्ली,  ब्यूरो। केंद्र की वैक्सीन नीति पर सवाल उठाते हुए कांग्रेस ने कहा है कि सरकार अब अपनी जिम्मेदारी से भाग रही है। राज्यों पर अतिरिक्त बोझ डाल रही है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने मंगलवार को वैक्सीन नीति पर सवाल उठाते हुए कहा कि टीकाकरण कार्यक्रम को निजी हाथों में और बाजार के भरोसे नहीं छोड़ना चाहिए।

र्व केंद्रीय मंत्री चिपूदंबरम मंगलवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता अजय माकन और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश के साथ वैक्सीन नीति से जुड़े मुद्दों पर वर्चुअल चर्चा कर रहे थे। इस दौरान नीति से जुड़े पांच सवाल उठाए और सरकार से इसका जवाब मांगा है। उन्होंने कहा कि नीति में 45 वर्ष से कम उम्र के युवाओं को तो भगवान भरोसे छोड़ दिया गया है, जिन्हें अब वैक्सीन के लिए मुहमांगे पैसे चुकाने होंगे, क्योंकि वैक्सीन की कीमतें नहीं तय की गई हैं। इनकी कीमतों को तय करने का जिम्मा कंपनियों और राज्य सरकारों पर छोड़ दिया गया है।

कांग्रेस ने मांग की कि नई वैक्सीन नीति के तहत निजी अस्पतालों और राज्य सरकारों को भी केंद्र सरकार की कीमतों पर वैक्सीन मिलनी चाहिए।

देश में कोरोना की दूसरी लहर में जहां एक ओर वैक्सीन और दवाओं की किल्लत पैदा हो गई है वहीं कई राज्य कोरोना टीके की बड़े पैमाने पर बर्बादी भी कर रहे हैं। देश में 16 जनवरी से शुरू हुए टीकाकरण अभियान के बाद से 11 अप्रैल तक देश में 44 लाख से अधिक डोज बर्बाद हो चुकी हैं। सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार 11 अप्रैल तक राज्यों को टीके की करीब 10.34 करोड़ डोज जारी की गई जिसमें से 44.78 लाख से अधिक डोज विभिन्न कारणों से बेकार हो गई। उल्लेखनीय देश में कोरोना वैक्सीन को लेकर गैर भाजपा शासित राज्यों और केंद्र के बीच जमकर राजनीति हुई है।