बंगाल में राजनीतिक हिंसा जारी, उत्तर बंगाल के शीतलकूची में दिलीप घोष के काफिले पर हमला

 

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के काफिले पर हमले की खबर

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण के मतदान के दौरान भी हिंसा की खबरें सामने आईं। अब भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के काफिले पर हमले की खबर सामने आई है। ये दावा खुद दिलीप घोष ने मीडिया के सामने किया।

 संवाददाता, सिलीगुड़ी: उत्तर बंगाल कूचबिहार जिला अंतर्गत सीतलकुची विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार में बुधवार शाम भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के काफिले पर हमले की खबर है। आरोप है कि हमला तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की ओर से किया गया है। हमले में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष पूरी तरह सुरक्षित हैं लेकिन कई वाहनों को क्षति पहुंचाई गई है। इस घटना के बाद विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न इलाके में टीएमसी और भाजपा समर्थकों के बीच लगातार संघर्ष हो रहे हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि चुनावी सभा खत्म होने के बाद वे समर्थकों के साथ लोगों की भीड़ छंटने का इंतजार कर रहे थे। उसी समय ईट पत्थर और बम के साथ उनके काफिले पर हमला किया गया है। इस संबंध में चुनाव आयोग को जानकारी दी गई है। कूच बिहार में अगर यही स्थिति रही तो उन्हें नहीं लगता यहां के मतदाता चुनाव में भी भाग ले पाएंगे। यहां की व्यवस्था को कैसे चुनाव आयोग ध्यान में लेकर कार्रवाई करती है यह देखना होगा।  दिलीप घोष ने आगे कहा कि वह पूरी तरह सुरक्षित है और इस प्रकार के हमले से वे अभ्यस्त हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि यह हमला इस बात का द्योतक है कि भारतीय जनता पार्टी पूरी ताकत से इस क्षेत्र में चुनाव जीतने की ओर बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की हिंसा आने वाले दिनों में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। 

उन्होंने कहा कि इस प्रकार की हिंसा के लिए सिर्फ और सिर्फ मुख्यमंत्री और तृणमूल नेत्री पूरी तरह जिम्मेदार हैं। जिस प्रकार मुख्यमंत्री जनसभाओं में लोगों को भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं को सबक सिखाने के लिए आह्वान करती हैं यह उसी का नतीजा है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की घटना से भारतीय जनता पार्टी के किसी भी कार्यकर्ता को डराया नहीं जा सकता है। घोष ने बताया कि उनके काफिले पर हमला को लेकर केंद्रीय नेतृत्व ने उनसे संपर्क किया है और उनसे विस्तार पूर्वक बातचीत हुई है।

इस घटना की जानकारी मिलते ही भारतीय जनता पार्टी के सभी जिलों से घटना की निंदा की जा रही है। दिलीप घोष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनावी जनसभा को लेकर बुधवार को सिलीगुड़ी पहुंचे हैं। बागडोगरा एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि चुनावी हिंसा बंगाल में कम्युनिस्ट पार्टी की देन है। पिछले 10 वर्षो में चुनावी हिंसा को वर्तमान टीएमसी की सरकार ने उसे भी मात्र दे दिया है। आज चुनावी हिंसा से लोग इतने गुस्से में है कि अब चुनावी हिंसा करने वाले को आगे बढ़कर सबक सिखा रहे हैं। जब दिलीप घोष से पूछा गया कि भारतीय जनता पार्टी और उनके नेता ममता बनर्जी को दीदी और दीदी कह कर क्यों परेशान कर रहे हैं?