दिल्ली में इन चार मेट्रो स्टेशनों पर अचानक एंट्री हुई बंद, यात्री हुए परेशान
पटेल चौक, नई दिल्ली, चावड़ी बाजार और चांदनी चौक मेट्रो स्टेशनों पर एंट्री गेट बंद कर दिया गया है।

डीएमआरसी ने ट्वीट कर बताया कि पटेल चौक नई दिल्ली चावड़ी बाजार और चांदनी चौक मेट्रो स्टेशनों पर एंट्री गेट बंद कर दिया गया है। हालांकि इस दौरान एग्जिट गेट को बंद नहीं किया गया था।

नई दिल्ली, प्रेट्र। राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। स्थिति अब ऐसी आ गई है कि नाइट कर्फ्यू का भी एलान हो गया है लेकिन ऐसे बहुत से जगह हैं जहां पर कोरोना नियमों का पालन नहीं हो रहा है। कोविड नियमों का पालन करवाने के लिए प्रशासन को आगे आना पड़ रहा है। इन सभी के बीच दिल्ली मेट्रो रेल कार्पोरेशन (डीएमआरसी) को येलो लाइन के चार मेट्रो स्टेशनों पर एंट्री गेट को अस्थायी तौर पर कुछ समय के लिए बंद करना पड़ा। ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि मेट्रो स्टेशनों पर यात्रियों की भीड़ ज्यादा हो गई थी। शारीरिक दूरी का पालन करवाना मुश्किल हो गया था।

डीएमआरसी ने ट्वीट कर बताया कि पटेल चौक, नई दिल्ली, चावड़ी बाजार और चांदनी चौक मेट्रो स्टेशनों पर एंट्री गेट बंद कर दिया गया है। हालांकि इस दौरान एग्जिट गेट को बंद नहीं किया गया था। इससे मेट्रो से उतरने वाले यात्रियों को परेशानी नहीं हुई, जबकि जाने वालों को या तो लंबा इंतजार करना पड़ा या फिर बस या फिर किसी दूसरे साधन से जाना पड़ा।

भीड़ खत्म होने के बाद खोला गया मेट्रो स्टेशन का एंट्री गेट

डीएमआरसी ने ट्वीट कर बताया कि अब 'पटेल चौक, नई दिल्ली, चावड़ी बाजार और चांदनी चौक मेट्रो स्टेशनों पर एंट्री गेट को खोल दिया गया है। आपके धैर्य के लिए धन्यवाद'। दरअसल, डीएमआरसी ने दोपहर 12:30 बजे ट्वीट किया, "हमारी भीड़ नियंत्रण उपायों के हिस्से के रूप में शारीरिक दूरी को सुनिश्चित करने के लिए चार मेट्रो स्टेशनों को बंद कर दिया गया है। लगभग दस मिनट बाद एंट्री गेट को दोबारा से खोल दिया गया। इस दौरान हजारों यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। 

बता दें कि पटेल चौक और नई दिल्ली मेट्रो स्टेशन शहर के केंद्र में स्थित हैं, जहां बड़ी संख्या में सरकारी कार्यालय स्थित हैं। चावड़ी बाजार और चांदनी चौक स्टेशन घनी आबादी वाले पुरानी दिल्ली में स्थित हैं जो एक सांस्कृतिक और वाणिज्यिक केंद्र है। इस वजह से यहां पर भीड़ औसतन रोजाना अन्य स्टेशनों की अपेक्षा ज्यादा होती है।