दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू का एलान, कई और प्रतिबंध भी लगे

 affiliates

उपराज्यपाल अनिल बैजल और सीएम अरविंद केजरीवाल की फाइल फोटो।

 राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वीकेंड कर्फ्यू लगाने का एलान किया है। इस दौरान सिर्फ 30 फीसद दर्शकों की क्षमता के साथ सिनेमा हाल खुलेंगे।

नई दिल्ली , राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों पर लगाम लगाने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal, Delhi Chief Minister) ने बृहस्पतिवार को वीकेंड कर्फ्यू लगाने का एलान किया है।  इसके तहत वीकेंड कर्फ्यू शुक्रवार रात 10 बजे से शुरू होगा और यह सोमवार सुबह 5 बजे खत्म होगा। वीकेंड कर्फ्यू  के दौरान काफी सारे प्रतिबंध लागू रहेंगे। उपराज्यपाल अनिल बैजल के बीच हुई अहम बैठक के बाद वीकेंड कर्फ्यू की घोषणा की गई है। सीएम अरविंद केजरीवाल के मुताबिक, वीकेंड यानी शनिवार और रविवार को दिल्‍ली में कर्फ्यू रहेगा। फिलहाल 30 अप्रैल तक यह प्रावधान किए गए हैं।

जानें- वीकेंड कर्फ्यू की बड़ी बातें

  • सप्ताहांत में कर्फ्यू लगाया जा रहा है, जो शनिवार-रविवार को प्रभावी होगा।
  • सिनेमा हॉल 30 फीसद क्षमता के साथ खुलेंगे।
  • दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू के दौरान जरूरी सेवाएं बाधित नहीं होंगी।
  • जरूरी सेवाएं मुक्त रहेंगी, शादियों के लिए ई पास दिए जाएंगे
  • जिम, स्पा और ऑडिटोरियम बंद रहेंगे।
  • साप्ताहिक बाजार रोजाना एक ज़ोन में एक ही लगेगा।
  • रेस्तरां में अब बैठकर खाना नहीं खा सकेंगे। पैक कराकर घर ले जा सकेंगे

इन्हें मिलेगी राहत

  • वीकेंड कर्फ्यू लगाने के दौरान ट्रेन और हवाई यात्रियों के साथ अन्य राज्यों से आने वाले वाहन चालकों को छूट है। टिकट दिखाकर यात्रा कर सकेंगे।
  • आइडी कार्ड दिखाने पर प्राइवेट डॉक्टर नर्स पैरामेडिकल स्टाफ को भी छूट मिलेगी
  • पत्रकार को छूट मिलेगी (प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया दोनों)
  • रात में वैक्सीन लगवाने वालों को छूट रहेगी।
  • राशन, किराना, फल सब्जी, दूध, दवा से जुड़े दुकानदारों को ई-पास के जरिए ही मूवमेंट की छूट होगी

जिम, स्पा और ऑडिटोरियम रहेंगे बंद 

कोरोना वायरस संक्रमण फैलने की एक बड़ी और अहम वजह भीड़भाड़ है। इसके मद्देनजर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने जिम, स्पा और ऑडिटोरियम बंद करने का एलान किया है। 

पसंद के अस्पातल की जिद नहीं चलेगी

अरविंद केजरीवाल ने एलजी अनिल बैजल के साथ हुई बैठक के बाद डिजिटल पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि दिल्ली में हालात काबू में है और बेड की कमी फिलहाल नहीं है। दिल्ली में 5000 से ज्यादा बेड खाली हैं। उन्होंने यह भी कहा कि हर बीमार व्यक्ति को दिल्ली में हर हाल में बेड मिले, इसकी कोशिश है। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि पसंद के अस्पताल की जिद नहीं चलेगी। जहां पर खाली बेड होंगे, मरीज को जाना होगा।बता दें कि दिल्ली में आगामी 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू भी लगा हुआ है, इसके तहत रात 10 बजे से सुबह  5 बजे तक सामान्य कामकाज और व्यापारिक गतिविधियां प्रतिबंधित हैं। 

यहां पर बता दें कि देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण की ताजा लहर ने कई रिकॉर्ड धराशायी कर दिए हैं। बुधवार को 24 घंटे के दौरान 17,000 से अधिक कोरोना के मामले सामने आए, जिसने दिल्ली सरकार की चिंता बढ़ा दी है। 

राजधानी दिल्ली में बुधवार को  24 घंटे के दौरान कोरोना संक्रमण रिकॉर्ड 17,282 नए मामले सामने आए। इस तरह कोरोना के संक्रमण की दर भी बढ़कर 15.92 फीसद हो गई है। इससे पहले पिछले साल 15 नवंबर के बाद ऐसा पहली बार हुआ है, जब संक्रमण दर 16 फीसद के करीब पहुंची थी। चिंताजनक यह है कि इस लहर में पहली बार मृतकों की संख्या भी 100 के पार पहुंच गई। पिछले 24 घंटे में 104 मरीजों की मौत हो गई। वहीं, एक दिन पहले 13,468 मामले आए थे। इससे एक तरफ जहां सक्रिय मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। वहीं, मौत का आंकड़ा भी बढ़ रहा है। वहीं, मरीजों के ठीक होने की दर लगातार घट रही है। 

24 घंटे में बढ़ गए 746 कंटेनमेंट जोन

उधर,  कोरोना के बिगड़ते हालात के बीच दिल्ली के सभी इलाकों में कंटेनमेंट जोन की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। हालात यह हैं कि 24 घंटे में ही दिल्ली के विभिन्न जिलों में 746 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। चिंताजनक बात यह है कि दक्षिणी जिले में संक्रमण की गति सबसे तेज है। यहां 24 घंटे में ही सबसे ज्यादा 169 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं।

  • 21,158 कंटेनमेंट जोन थे 10 अप्रैल तक
  • 23,555 कंटेनमेंट जोन हो गए 14 अप्रैल को
  • 15,922 कंटेनमेंट जोन डी-कंटेन हुए थे
  • 10 अप्रैल तक 16,007 कंटेनमेंट जोन खत्म हुए
  • 14 अप्रैल तक 1632 कंटेनमेंट जोन दक्षिणी जिले में
  • 13 अप्रैल को थे 1,797 कंटेनमेंट जोन
  • 14 अप्रैल को गए
  • 117 कंटेनमेंट जोन ही 20 मार्च को दक्षिणी जिले में थे