दो वर्ष के लिए तड़ीपार किए गए बदमाश को पुलिस ने किया गिरफ्तार

 

पूछताछ में पता चला कि वह इलाके में वारदात को अंजाम देने की फिराक में था।

बदमाश की पहचान सुनील के रूप में हुई है। इसके पास से चोरी की एक स्कूटी बरामद हुई है। उसे पिछले वर्ष आठ दिसंबर को दो वर्ष के लिए तड़ीपार किया गया था लेकिन वह दिल्ली में ही रह रहा था। उसपर विभिन्न थानों में नौ मामले दर्ज हैं।

नई  दिल्ली । दिल्ली से दो वर्ष के लिए तड़ीपार किए गए बदमाश को द्वारका जिला के स्पेशल टास्किंग फोर्स ने गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। इसकी पहचान सुनील के रूप में हुई है। इसके पास से चोरी की एक स्कूटी बरामद हुई है। उसे पिछले वर्ष आठ दिसंबर को दो वर्ष के लिए तड़ीपार किया गया था, लेकिन वह दिल्ली में ही रह रहा था। उसपर विभिन्न थानों में नौ मामले दर्ज हैं।

सेक्टर 10 के आरटीओ कार्यालय के पास हुई गिरफ्तार

पुलिस उपायुक्त संतोष कुमार मीणा ने बताया कि सीडीआर सेल के एएसआइ राकेश कुमार ने सुनील के इलाके में होने की जानकारी दी। इसके बाद स्पेशल टास्किंग फोर्स व द्वारका साउथ थाना के पुलिसकर्मी की एक टीम एसीपी के मार्गदर्शन में बनाई गई। जानकारी के आधार पर सुनील को द्वारका सेक्टर 10 के आरटीओ कार्यालय के पास गिरफ्तार कर लिया गया। तलाशी लेने पर उसके पास से एक बटनदार चाकू बरामद हुआ। जिस स्कूटी पर वह सवार था वह बिंदापुर इलाके से चुराई गई थी। पूछताछ में पता चला कि वह इलाके में वारदात को अंजाम देने की फिराक में था।

पिस्तौल लेकर घूम रहा शख्स गिरफ्तार

वहीं, कोटला मुबारकपुर थाना पुलिस ने घूम रहे प्रापर्टी डीलर को गिरफ्तार किया। उसके पास से एक पिस्तौल और चार कारतूस बरामद किए। आरोपित अभिजीत सिंह नाहर के पास से 16 लाख रुपये भी बरामद हुए हैं। पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि कोटला मुबारकपुर थाने में तैनात हेडकांस्टेबल नरेश और कांस्टेबल सतेंद्र सात अप्रैल की सुबह बैरिकेड लगाकर साऊथ एक्स-1 के बस स्टैंड के पास जांच कर रहे थे। इसी दौरान पुलिस टीम ने अभिजीत सिंह नाहर को संदिग्ध हालत में घूमते हुए देखा। आरोपित पुलिस को देखकर भागने लगा। ऐसे में पुलिस ने उसे पीछा कर दबोच लिया। फिलहाल पुलिस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि उसके पास पिस्तौल कहां से आई थी और उसने इतने रुपये किस लिए रखे थे।