नए कोरोना मामलों में भारत विश्व में सबसे आगे, दुनिया में हर चार में एक संक्रमित व्यक्ति इसी देश से

भारत में कोरोना की स्थिति बेहत गंभीर और चिंताजनक। (फोटो: दैनिक जागरण)

भारत में कोरोना महामारी की दूसरी लहर अत्यधिक गंभीर होती जा रही है। मंगलवार देर रात तक मिले आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे के दौरान 294115 नए मामले मिले हैं और 2020 लोगों की मौत हुई है। महाराष्ट्र यूपी और दिल्ली के हालात चिंताजनक हैं।

नई दिल्ली, रायटर। भारत में कोरोना की दूसरी लहर से हालात बेकोबू होते जा रहे हैं। नए कोरोना के मामलों में भारत दुनिया में सबसे आगे है। देश के हालात इतने बुरे हैं कि दुनिया में हर चार में से एक कोरोना संक्रमित व्यक्ति भारत से सामने आ रहा है। दुनियाभर के देशों में रोजाना मिलने वाले कोरोना मरीजों की संख्या की लिस्ट में भारत सबसे आगे है। भारत में कोरोना के एक दिन में करीब 3 लाख मामले सामने आ रहे हैं। पिछले साल अक्टूबर के बाद से ये पहला मौका है जब दुनियाभर के देशों में से भारत में एक दिन के कोरोना संक्रमण के मामले सबसे अधिक थे। 

भारत में कोरोना से हाहाकार

भारत में में कोरोना वायरस बेड्स, दवा और ऑक्सीजन की कमी के बीच हाहाकार मचा रहा है। कोरोना की दूसरी लहर में देश में पहली बार 3 लाख के करीब केस आए हैं। देश में 2 लाख 95 हजार 041 नए कोरोना पॉजिटिव हुए हैं। पिछले 24 घंटे में 2023 मरीजों की मौत भी हुई। इस दौरान 1 लाख 67 हजार 457 लोगों ने इस वायरस के संक्रमण से ठीक हुए। कोरोना से अब तक भारत में 1 करोड़ 56 लाख 16 हजार 130 लोग संक्रमित हो चुके हैं। अब तक 1 करोड़ 32 लाख 76 हजार 039 लोग इस वायरस के संक्रमण से ठीक हो गए हैं। मौतों का आंकड़ा 1 लाख 82 हजार 553 तक पहुंच गया है। सक्रिय मरीजों की कुल संख्या 21 लाख 57 हजार 538 है। अब तक 13 करोड़ 1 लाख 19 हजार 310 वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी है।

भारत प्रतिदिन दुनियाभर में होने वाले नए संक्रमणों की औसत संख्या में सबसे आगे है। दुनिया में हर चार संक्रमणों में से एक यहीं से सामने आ रहे हैं। भारत में कुल संक्रमणों की संख्या अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है। विशेषज्ञों ने कोरोना के नए वेरिएंट को इसका दोषी बताया है। सरकार ने शारीरिक दूरी का अभ्यास करने में विफलता को दोषी ठहराया है। भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने अस्पतालों को पहले की तुलना में बहुत तेजी से हिला दिया है। महामारी विज्ञानियों और डॉक्टरों का कहना है कि वायरस में म्यूटेशन का मतलब है कि प्रत्येक मरीज पहले की तुलना में कई अधिक लोगों को संक्रमित कर रहा है।

कोरोना की दूसरी लहर में नए मामलों में बड़ी तेजी के साथ देश भर में अस्पतालों में बाढ़ आ गई है। प्रमुख शहर, जिनमें तुलनात्मक रूप से बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध है और कोरोना की जांच का दबाव का सामना करने में असमर्थ हैं। बेड, ऑक्सीजन सिलेंडर और ड्रग्स की कमी के बारे में शिकायत करने वाले लोगों और हेल्पलाइन नंबरों को प्रसारित करने वाले नागरिक समूहों और स्वयंसेवा समर्थन करने वालों सोशल मीडिया पर बाढ़ आ गई है।

बढ़ते संक्रमण के बावजूद, राजनेताओं ने राज्य चुनावों के लिए देश भर में बड़े पैमाने पर रैलियां जारी रखीं हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयम बरतने का आह्वान करते हुए ट्विटर पर कहा कि त्योहार को "प्रतीकात्मक" रखा जाना चाहिए।